IIT के छात्रों को PM मोदी का गुरु मंत्र, बोले- आत्मविश्वास और निस्वार्थ भाव से आगे बढ़ो

2021-02-23T13:02:26.6

नेशनल डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  आईआईटी खड़गपुर के 66वें दीक्षांत समारोह को भी संबोधित कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज का दिन IIT खड़गपुर के सिर्फ उन विद्यार्थियों के लिए अहम नहीं है, जिनकों डिग्री मिल रही है बल्किन ए भारत के निर्माण के लिए भी काफी अहम है। उन्होंने छात्रों को आगे बढने के लिए प्रोत्साहितकरते हुए कहा कि आप अपने सामर्थ्य को पहचानकर आगे बढ़ें, पूरे आत्मविश्वास से आगे बढ़ें, निस्वार्थ भाव से आगे बढ़ें।

PunjabKesari

21वीं सदी के भारत की स्थिति बदल गई है: पीएम मोदी

  • आप सभी, साइंस, टेक्नॉलॉजी और इनोवेशन के जिस मार्ग पर चले हैं, वहां जल्दबाज़ी के लिए कोई स्थान नहीं है।
  • आपने जो सोचा है, आप जिस इनोवेशन पर काम कर रहे हैं, संभव है उसमें आपको पूरी सफलता ना मिले। लेकिन आपकी उस असफलता को भी सफलता ही माना जाएगा, क्योंकि आप उससे भी कुछ सीखेंगे। 
  • 21वीं सदी के भारत की स्थिति भी बदल गई है, ज़रूरतें भी बदल गई हैं और Aspirations भी बदल गई हैं।
  • अब IITs को इंडियन इंस्टीट्यूट्स ऑफ टेक्नॉलॉजी ही नहीं, Institutes of Indigenous Technologies के मामले में Next Level पर ले जाने की जरूरत है।

PunjabKesari

दुनिया climate change की चुनौतियों से जूझ रही है: पीएम मोदी 

  • आप ये जानते हैं कि ऐसे समय मे जब दुनिया climate change की चुनौतियों से जूझ रही है, भारत ने इंटरनेशनल सोलर अलायन्स (ISA) का विचार दुनिया के सामने रखा और इसे मूर्त रूप दिया।
  • आज दुनिया के अनेक देश भारत द्वारा शुरू किए गए इस अभियान से जुड़ रहे हैं।
  • आज भारत उन देशों में से है जहां सोलर पावर की कीमत प्रति यूनिट बहुत कम है। लेकिन घर-घर तक सोलर पावर पहुंचाने के लिए अब भी बहुत चुनौतियां हैं।
  • भारत को ऐसी टेक्नोलॉजी चाहिए जो इनवायर्नमेंट को कम से कम नुकसान पहुंचाए, ड्यूरेबल हो और लोग ज्यादा आसानी से उसका इस्तेमाल कर पाएं।

PunjabKesari

स्पेशलिटी अस्पताल का  उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी
सके बाद पीएम मोदी आईआईटी खड़गपुर में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च का वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए उद्घाटन करेंगे। यह एक सुपर स्पेशलिटी अस्पताल है जिसे इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़गपुर ने शिक्षा मंत्रालय के सहयोग से तैयार किया है। इस अस्पताल में 650 बेड हैं, जिसके निर्माण में 250 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। अस्पताल में मजबूत बायोमेडिकल, क्लिनिकल और ट्रांसलेशनल रिसर्च, रिमोट डायग्नोस्टिक्स के विकास, टेलीमेडिसिन, टेलीरेडोलॉजी के साथ ही दवाएं बनाने और वितरण करने पर भी विशेष ध्यान दिया गया है। शिक्षा मंत्रालय के समर्थन से आईआईटी खड़गपुर ने इस सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल को बनाया है। यह अस्पताल कई मायनों में अहम है। इसमें नवीन प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल किया गया है।  पश्चिम बंगाल के राज्यपाल, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।


Content Writer

vasudha

Recommended News