Corona Vaccination: एयर इंडिया की फ्लाइट से दिल्ली पहुंची  बायोटेक के टीके की पहली खेप

2021-01-13T11:08:20.677

नेशनल डेस्क:  कोरोना वायरस के खिलाफ निर्णायक लड़ाई के शुरू होने से पहले  कोविड-19 टीके की खुराक देश के अलग अलग हिस्सों में पहुंचनी शुरू हो गई है।  ‘कोविशील्ड'  के बाद भारत बायोटेक ने भी 'कोवैक्सीन' की पहली खप हैदराबाद से दिल्ली पहुंचा दी गई है। इसकी पहली खेप सुबह 6 बजकर 50 मिनट पर एयर इंडिया की फ्लाइट AI 559 से दिल्ली पहुंची।

PunjabKesari

भारत सरकार ने खरीदी कोवैक्सीन की 55 लाख खुराक
हवाईअड्डे के मालवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीरम इंस्टीट्यूट से 970 किलोग्राम की खेप प्राप्त हुई। भारत बायोटेक के टीकों की पहली खेप 11 स्थानों के लिए रवाना की गई। दरअसल भारत सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से कोविशील्ड की 1.1 करोड़ खुराक के अलावा भारत बायोटेक से कोवैक्सीन की 55 लाख खुराक खरीदी है। कोवैक्सीन की 38.5 लाख खुराक में से प्रत्येक पर 295 रुपये (कर को छोड़कर) की लागत आएगी। भारत बायोटेक 16.5 लाख खुराक निशुल्क मुहैया करा रही है, जिससे इसकी लागत प्रत्येक खुराक पर 206 रुपये आएगी। 

PunjabKesari

 बायोटेक ने एनआईवी के साथ किया काम 
कोविशील्ड का विकास ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनेका ने किया है तथा भारत में इसका उत्पादन पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। कोवैक्सीन का विकास भारत बायोटेक ने स्वदेश में ही भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) के साथ मिलकर किया है।

PunjabKesari
 मंगलवार को  ‘कोविशील्ड' टीकों की पहुंची थी पहली खेप 
बता दें कि मंगलवार को ‘कोविशील्ड' टीकों की 56 लाख से ज्यादा खुराक पुणे से देश के 13 शहरों में भेजी गई थी। नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट कर बताया था कि  टीके के परिवहन का काम शुरू हो गया है। पहली खेप में ‘कोविशील्ड' के 1088 किलोग्राम के 34 डिब्बे थे, जो ‘स्पाइजेट' की विमान संख्या-8937 में पुणे से दिल्ली लाए गए थे। टीकों को सीरम इंस्टीट्यूट से रवाना करने से पहले पूजा भी की गई थी। पुणे हवाईअड्डे से इन टीकों को हवाई मार्ग के जरिए भारत के अन्य हिस्सों में पहुंचाया गया था। 

PunjabKesari

16 जनवरी से शुरू होगा टीकाकरण 
केन्द्र सरकार ने देश में 16 जनवरी से शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान से पहले सोमवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और ‘भारत बायोटेक' को कोविड-19 टीके की छह करोड़ से अधिक खुराक के लिए ऑर्डर दिया था। इस ऑर्डर की कुल कीमत करीब 1,300 करोड़ रुपये होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की थी और कहा था कि कोविड-19 के लिए टीकाकरण पिछले तीन-चार हफ्तों से लगभग 50 देशों में चल रहा है और अब तक केवल ढाई करोड़ लोगों को टीके लगाए गए हैं जबकि भारत का लक्ष्य अगले कुछ महीनों में 30 करोड़ से अधिक लोगों को टीका लगाना है।


vasudha

Recommended News