गंगा की गोद में CDS बिपिन रावत, नम आंखों से बेटियों ने हरिद्वार में विसर्जित की माता-पिता की अस्थियां

punjabkesari.in Saturday, Dec 11, 2021 - 01:42 PM (IST)

नेशनल डेस्क: सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की अस्थियां आज गंगा में प्रवाहित की जाएंगी। जनरल की दोनों बेटियों कृतिका और तारीनी ने सुबह दिल्ली कैंटोनमेंट स्थित बरार स्क्वॉयर क्रेमेटोरियम से अपने माता-पिता की अस्थियां एकत्र कीं। जनरल रावत और उनकी पत्नी का अस्थि विसर्जन कार्यक्रम उत्तराखंड स्थित हरिद्वार में होगा। वहीं जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की बेटियों ने शनिवार को कृतिका और तारिणी ने उत्तराखंड के हरिद्वार में गंगा नदी में अपने माता-पिता की अस्थियां विसर्जित कीं। इससे पहले दोनों बेटियों ने शनिवार को दिल्ली के श्मशान घाट से अपने माता-पिता की अस्थियां एकत्र कीं। 



सेना के बैंड की धुन के साथ 17 तोपों की दी गई सलामी
निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार, सेना के बैंड की धुन के साथ उन्हें 17 तोपों की सलामी दी गई। उनकी दोनों बेटियों-तारिणी और कृतिका ने अंतिम संस्कार से संबंधित रस्मी अनुष्ठान किए। लाखों लोगों ने टेलीविजन पर इस भावुक कर देने वाले क्षण को देखा। अंत्येष्टि स्थल के पास लोगों का हुजूम मौजूद था। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री किरेन रिजिजू, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनैन और भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस भी भारत के पहले सीडीएस के अंतिम संस्कार के समय उपस्थित थे। अंतिम यात्रा के लिए 2233 फील्ड रेजिमेंट ने रस्मी तोपगाड़ी उपलब्ध कराई। सीडीएस के अंतिम संस्कार में सेना के तीनों अंगों से लगभग 800 सैन्यकर्मी शामिल हुए। कई देशों के सैन्य अधिकारियों ने भी जनरल रावत और उनकी पत्नी को श्रद्धांजलि दी। इससे पहले, सीडीएस जनरल रावत की अंतिम यात्रा में उमड़े लोगों के हुजूम ने ‘भारत माता की जय', ‘वंदे मातरम', ‘जब तक सूरज चांद रहेगा, रावत जी का नाम रहेगा' और ‘जनरल रावत अमर रहें' जैसे नारे लगाकर अपने प्रिय महान सैनिक को अंतिम विदाई दी। 

जनरल रावत, उनकी पत्नी के सम्मान में सड़कों पर लगाए गये पोस्टर 
प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत को श्रद्धांजलि देते हुए कई पोस्टर शुक्रवार को दिल्ली में उनके आधिकारिक आवास के समीप सड़कों पर लगाए गए। बड़े-बड़े ये पोस्टर कामराज मार्ग पर और लुटियंस दिल्ली में अन्य सड़कों पर खंभों से लेकर पेड़ों पर लगे देखे गए। पोस्टर पर दंपति की तस्वीरें लगी थी और यह नारा लिखा था, ‘‘अमर रहे''। सीडीएस का आधिकारिक आवास 3, कामराज मार्ग है, जहां जनरल रावत और उनकी पत्नी की पार्थिव देह लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखी गयी। उनका अंतिम संस्कार दिल्ली छावनी में बरार स्क्वेयर में किया गया। इससे पहले उनके आधिकारिक आवास के बाहर कई लोग एकत्रित हुए और उन्होंने ‘भारत माता की जय', ‘जनरल रावत अमर रहे' और ‘उत्तराखंड का हीरा अमर रहे' के नारे लगाए जबकि कई गणमान्य लोगों ने उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। एक हिंदू संगठन ने सीडीएस के आधिकारिक बंगले के मुख्य प्रवेश द्वार के समीप सड़क पर जनरल रावत की तस्वीर वाले कई पोस्टर लगाए। इन पोस्टर पर माल्यार्पण भी किया गया। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News