गरीबी के खिलाफ लड़ाई कैंसर से लड़ने जैसी, छोटी-छोटी जीत में है सफलता: नोबेल अर्थशास्त्री

12/11/2019 6:34:48 PM

स्टॉकहोम: गरीबी के खिलाफ लड़ाई कैंसर से लडऩे के समान है। इसे एक बार में किसी बड़े युद्ध में नहीं जीता जा सकता बल्कि इसके लिए छोटी-छोटी लड़ाइयां जीतने की जरूरत है। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाले अर्थशास्त्रियों अभिजीत बनर्जी, एस्तर डुफ्लो और माइकल क्रेमर का यह मानना है। वैश्विक स्तर पर गरीबी के उन्मूलन के लिए प्रयोगात्मक दृष्टिकोण अपनाने के बाद उनकी यह धारणा बनी है। तीनों ने मंगलवार को महान वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में स्वीडन के केंद्रीय बैंक द्वारा स्थापित स्वेरिजेस रिक्सबैंक पुरस्कार प्राप्त किए। इस मौके पर सबकी तरफ से डुफ्लो ने कहा, हम (अनुसंधान से जुड़े) ऐसे अभियान का प्रतिनिधित्व करते हैं जो हममें से किसी से भी काफी व्यापक है। हमारा मानना है कि पुरसकार से न केवल इस बात का मान्यता मिलती है कि इस अभियान ने क्या हासिल किया है बल्कि इसे भी स्वीकृति मिलती है कि इससे भविष्य में क्या हासिल किया जा सकता है। 

PunjabKesari

नोबेल प्राइज डॉट ओआरजी ने डुफ्ले के हवाले से कहा, यह अभियान इस धारणा के साथ शुरू हुआ था कि दुनिया में गरीबी के खिलाफ उल्लेखनीय प्रगति हासिल की जा सकती है। इसमें यह विचार था कि वास्तविक दुनिया में बेहतर तरीके से परिभाषित सवालों पर ध्यान और यथासंभव उसके जवाब के जरिये गरीबी के खिलाफ सफलता हासिल की जा सकती है। मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में काम कर रहे बनर्जी और उनकी पत्नी डुफ्लो परंपरागत भारतीय पोशाक में पुरस्कार समारोह में शामिल हुए। 58 साल के बनर्जी कुर्ता, धोती तथा काले रंग की जैकेट पहने हुए थे। वहीं 47 साल की डुफ्लो नीले रंग की साड़ी, लाल रंग का ब्लाउज पहनी थीं। उनके माथे पर लाल बिंदी थी। वैसे डुफ्लो फ्रांसिसी-अमेरिकी हैं। उन्होंने कहा, च्च्1990 में 19 लाख लोग अत्यंत गरीबी में थे। 88 लाख बच्चों की मौत पहले जन्मदिन से पहले हुई...।

PunjabKesari


डुफ्ले ने कहा, हमारा मानना है कि जिस प्रकार कैंसर के खिलाफ लड़ाई है, उसी प्रकार गरीबी के खिलाफ युद्धि एक बड़ी लड़ाई में नहीं जीती जा सकती लेकिन छोटी-छोटी जीत से हम लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि रास्ते में कई बाधाएं आएंगी और झटके लगेंगे। उन्होंने कहा, हमारे दो जुड़े लक्ष्य हैं। पहला, गरीबों के जीवन में सुधार के लिए योगदान तथा दूसरा उनके जीवन जीने के तरीकों को बेहतर तरीके से समझना...। अपने संबोधन में डुफ्लो ने उन लोगों तथा संगठनों का धन्यवाद दिया जिन्होंने उनके कार्य का समर्थन किया। तीनों अर्थशास्त्री को 90 लाख स्वीडिश क्रोना (6.7 करोड़ रुपये) की पुरस्कार राशि में से बराबर बराबर हिस्सा मिलेगा। अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार तीनों विजेता पुरस्कार में मिली राशि को आर्थिक अनुसंधान के लिए दान करेंगे। इससे 15 साल तक अनुसंधान कार्य में मदद मिलेगी। 


Edited By

Anil dev

Related News