महाराष्ट्र में गणपति विसर्जन के दौरान 18 लोगों की मौत

2019-09-13T11:26:17.717

मुंबईः महाराष्ट्र में गणेश प्रतिमा के विसर्जन के दौरान अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई। राज्य में 'गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ' के जयकारों के साथ गुरुवार को समूचे महाराष्ट्र में भगवान गणेश की प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया और इसके साथ ही 10 दिनों तक चलने वाला गणेश उत्सव ‘अनंत चतुदर्शी' के अवसर पर संपन्न हो गया, लेकिन विसर्जन के दौरान लोगों के डूबने और मौत की खबरों ने कई जगहों पर माहौल को गमगीन कर दिया।
PunjabKesari
पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि प्रतिमा विसर्जन की शुरुआत बृहस्पतिवार को हुई। मुंबई, पुणे और सांगली के कई हिस्सों में शुक्रवार को भी विसर्जन हुआ। पुलिस के मुताबिक, अमरावती, नासिक, ठाणे, सिंधुदुर्ग, रत्नागिरि, धुले, नांदेड़, अहमदनगर, अकोला और सतारा समेत 11 जिलों में डूबने की घटनाएं हुईं है। इन घटनाओं में 18 लोगों की मौत हो गई। 

PunjabKesari

वहीं गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान चार लोगों की मौत अमरावती में और तीन लोगों की मौत रत्नागिरि में हुई। नासिक, सिंधुदुर्ग और सतारा में दो-दो लोगों की मौत हुई। वहीं ठाणे, धुले और बुलढाना, अकोला और भंडारा में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई। इधर नासिक के सोमेश्वर जलप्रपात के पास डूब रहे तीन लोगों को जीवनरक्षक और अग्निशमन कर्मियों ने बचाया।
PunjabKesari
हालांकि मुंबई पुलिस ने प्रतिमा विसर्जन से पहले ट्वीट किया था कि, ‘‘हम अपने प्रिय भगवान गणेश को विदा करने को तैयार हैं ऐसे में हम आप सबसे एक सुरक्षित और शांतिपूर्ण गणेश विसर्जन सुनिश्चित करने का अनुरोध करते हैं।'' एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘पिछले कुछ बरसों में शहर में पुल ढहने की घटनाओं के मद्देनजर हमने कमजोर पुलों को बंद करने का फैसला किया। मुंबई में यातायात के लिए आज कम से कम 53 सड़कों को बंद रखा गया।''
PunjabKesari
गणेश चतुर्थी के साथ दो सितंबर को गणपति उत्सव शुरू हुआ था। प्रतिमा विसर्जन के लिए मुंबई महानगर,राज्य की सांस्कृतिक राजधानी पुणे के विभिन्न मंडलों और प्रदेश के अन्य हिस्सों में ढोल-ताशों के साथ श्रद्धालुओं ने पारंपरिक श्रद्धा एवं उल्लास के साथ झांकियां निकालीं।

 


Yaspal

Related News