पाकिस्‍तान में हालात बेकाबू; TLP कट्टरपंथियों ने DSP को दीं यातनाएं, 5 और पुलिसकर्मी अगवा (Video)

2021-04-18T18:12:26.337

पेशावरः पाकिस्तान में  प्रतिबंधित कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक  (TLP) की क्रूरता बढ़ती जा रही है।  देश को कई दिनों  से हिंसा  की आग में  सुलगाने वाले कट्टरपंथियों ने  अब  डिप्टी सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (DSP) को बंधक बनाकर यातनाएं देने  के अलावा रविवार को 5 और अधिकारियों को अगवा कर लिया ।  कट्टरपंथियों ने लाहौर की यतीम खाना चौक के आसपास का इलाका खाली कराने पहुंची पुलिस के साथ ऐसा बर्बर सलूक किया  है। पुलिस प्रवक्ता राणा आरिफ ने  बताया  कि संगठन के कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल बम से पुलिस पर हमला किया। उन्होंने बताया कि यातनाएं झेलने वाले 11 पुलिस अधिकारी अस्पताल में हैं। पुलिस के ऑपरेशन के बाद तीन लोगों की मौत हो चुकी है और कई घायल हो गए हैं।

 

یہ 2014 میں سانحہ ماڈل ٹاؤن لاہور کی ویڈیو نہیں ہے بلکہ یہ 2021 میں ماہ رمضان کے دوران آج چوک یتیم خانہ لاہور کی ویڈیو ہے جس کی خبر الیکٹرانک میڈیا سے غائب ہے کیونکہ میڈیا پر پابندی ہے لوگ ہمیں لاشوں کی ویڈیوز بھجوا رہے ہیں ہم صرف اپیل کر سکتے ہیں کہ رمضان میں خونریزی نہ کریں pic.twitter.com/EoUTWXEmHY

— Hamid Mir (@HamidMirPAK) April 18, 2021

संगठन ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें अगवा अधिकारी दिख रहे थे। बता दें कि TLP  के कार्यकर्ता  पिछल हफ्ते से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पार्टी समर्थकों ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून प्रकाशित करने के लिये फ्रांस के राजदूत को निष्कासित करने के वास्ते इमरान खान सरकार को 20 अप्रैल तक का समय दिया था, किंतु उससे पहले ही पुलिस ने सोमवार को पार्टी के प्रमुख साद हुसैन रिज्वी को गिरफ्तार कर लिया, जिसके बाद TLP ने देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। संगठन के प्रवक्ता का कहना है कि मरने वालों के शव तब दफन किए जाएंगे जब फ्रांस के राजदूत को बाहर निकाल दिया जाएगा।

PunjabKesari

इमरान खान के लिए सिरदर्द बने जहरीले मौलाना खादिम हुसैन रिजवी की पिछले दिनों रहस्‍यमय परिस्थितियों में मौत हो गई थी। रिजवी ने पाकिस्‍तान के कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्‍बैक पाकिस्‍तान (TLP) की स्‍थापना की थी और पिछले दिनों ही उसके संगठन ने रावलपिंडी और इस्‍लामाबाद को घेर लिया था। इससे लाखों लोग जहां इन दोनों ही शहरों में कैद होकर रह गए थे, वहीं पाकिस्‍तानी सेना और इमरान खान भी दबाव में आ गए थे। रिजवी की संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत के बाद उसकी ISI की ओर से हत्‍या की आशंका जताई जा रही है।

 


Content Writer

Tanuja

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static