चीन के प्रतिबंध से पाकिस्तान का मछली निर्यात संकट में, हो रहा करोड़ों का नुकसान

2021-07-27T12:36:16.483

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के सदाबहार दोस्त चीन द्वारा शिपमेंट में कोरोना वायरस का पता लगने के बाद मछली  निर्यात पर लगाए प्रतिबंध के चलते पाकिस्तान के समुद्री भोजन का निर्यात संकट में आ गया है। डॉन की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी में चीन को अपनी शिपमेंट में वायरस का पता चला था जिसके बाद चीनी अधिकारियों ने शीर्ष 15 निर्यातकों में से  9 फर्मों पर अब अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया  । कादरी नूरी एंटरप्राइज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मंजर आलम ने  बताया कि लगभग 50 कंपनियां चीन को मछली निर्यात कर रही हैं। उन्होंने  प्रतिबंध का विवरण देते हुए उन्होंने कहा कि यदि एक शिपमेंट में कोरोनावायरस का पता चलता है  तो निर्यातक को एक सप्ताह का प्रतिबंध लगता है और चार मामले सामने आने पर निर्यातक आठ सप्ताह के लिए शिपमेंट रोक दी जाती है जिससे निरायतकों का करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है।

 

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का समुद्री भोजन निर्यात संकट में है क्योंकि देश के कुल मछली निर्यात में से 60 प्रतिशत चीन के लिए नियत है। आलम ने कहा कि बाहरी डिब्बों में कोरोनावायरस का पता चला था और चीनी अधिकारियों ने संक्रमित खेप को नष्ट करने या इसे 15 दिनों के लिए संगरोध में भेजने के बजाय शिपिंग कंपनी को निलंबित कर दिया था। उन्होंने कहा, "अस्वीकृत खेप पाकिस्तान वापस आ गई और निर्यातकों को प्रति कंटेनर 20 लाख रुपए विलंब शुल्क और हिरासत और करों का सामना करना पड़ रहा है।" उन्होंने कहा, "निर्यातकों ने इस मामले को वाणिज्य सलाहकार अब्दुल रजाक दाऊद के समक्ष उठाया था  जिन्होंने एक समिति का गठन किया था, लेकिन अभी तक इस मामले में  कोई प्रगति नहीं हुई है।"

 

उन्होंने कहा कि 26 टन मछली वाले एक कंटेनर की कीमत 70 लाख रुपए से एक करोड़ रुपए के बीच है। क्षेत्रीय प्रतिस्पर्धियों द्वारा अर्जित 5 से 8 अमरीकी डॉलर प्रति किलोग्राम के औसत इकाई मूल्य ( AUP) की तुलना में पाकिस्तान वित्त वर्ष 18 से वित्त वर्ष 21 तक 2.5 अमरीकी डालर प्रति किलोग्राम से कम AUP पर समुद्री भोजन निर्यात कर रहा है। डीप ब्लू सीफूड लिमिटेड के CEO एम फैसल इफ्तिखार अली ने कहा कि भारत 5-7 अमरीकी डालर प्रति किलोग्राम का AUP प्राप्त कर रहा है, इसके बाद बांग्लादेश द्वारा 5 अमरीकी डालर और चीन द्वारा 7-8 अमरीकी डालर प्रति किलोग्राम प्राप्त किया जा रहा है। डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, औसत वैश्विक एयूपी 5 अमेरिकी डॉलर प्रति किलोग्राम है। आर्थिक सर्वेक्षण FY21 के अनुसार, मछली उत्पादों के पाकिस्तान के मुख्य खरीदार चीन, थाईलैंड, मलेशिया, मध्य पूर्व, श्रीलंका और जापान हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Recommended News