बांग्लादेश की राजधानी ढाका में 7 मंजिला इमारत में लगी आग, तकरीबन 45 लोगों की मौत

punjabkesari.in Friday, Mar 01, 2024 - 02:54 PM (IST)

इंटरनेशनल डेस्क. बांग्लादेश की राजधानी ढाका में सात मंजिला इमारत में बृहस्पतिवार रात आग लगने से कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई और 22 अन्य लोग घायल हो गए। बांग्लादेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. सामंत लाल सेन ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। आग लगने की यह घटना ढाका के बेली रोड इलाके में 'ग्रीन कोजी कॉटेज' इमारत में हुई। 

PunjabKesari
दमकल सेवा के अधिकारियों ने बताया कि इमारत की पहली मंजिल पर स्थित लोकप्रिय रेस्तरां 'कच्ची भाई' में बृहस्पतिवार रात करीब नौ बजकर 50 मिनट पर आग लग गई, जो तेजी से ऊपर की मंजिलों में भी फैल गई। इन मंजिलों पर रेस्तरां एवं कपड़े की दुकानें थीं। स्वास्थ्य मंत्री सेन ने कहा कि ढाका मेडिकल कॉलेज अस्पताल (डीएमसीएच) में 33 और 'शेख हसीना नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी' में 10 शवों को लाया गया तथा एक अन्य व्यक्ति की पुलिस अस्पताल में मौत हो गई। डीएमसीएच और 'शेख हसीना नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी' में 22 लोगों का उपचार किया जा रहा है और उनकी हालत नाजुक है। सेन स्वयं भी चिकित्सक हैं। बचाए गए लोगों का श्वसन तंत्र गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है।'' 

PunjabKesari
अधिकारियों ने बताया कि इमारत से 75 लोगों को बाहर निकाला गया जिनमें से 42 लोग बेहोश थे। घटनास्थल पर दमकल सेवा की 13 गाड़ियों को भेजा गया। चिकित्सकों ने कहा कि कुछ लोगों के शव इतनी बुरी तरह झुलस गए हैं कि उनकी पहचान कर पाना मुश्किल है। उन्होंने मृतक संख्या बढ़ने की आशंका जताई है। प्रत्यक्षदर्शियों और अधिकारियों ने बताया कि आग लगने के बाद लोग बचने के लिए ऊपर की मंजिलों की ओर भागे और कई लोगों को दमकलकर्मियों ने सीढ़ियों की मदद से बाहर निकाल लिया। 


पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) चौधरी अब्दुल्ला अल मामून ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 44 लोगों की मौत हो गई और 75 लोगों को बचा लिया गया है। घटना में बचाए गए कुछ लोगों को प्राथमिक उपचार मुहैया कराने के बाद घर भेज दिया गया। मृतकों में एक पुलिस अधिकारी की बेटी भी शामिल है। अग्निशमन सेवा के महानिदेशक ने बताया कि 42 बेहोश लोगों में 21 महिलाएं और चार बच्चे शामिल हैं। इस इमारत में हालात खतरनाक थे, यहां तक कि सीढ़ियों पर भी गैस सिलेंडर रखे थे। आग शायद गैस रिसाव या चूल्हे से लगी।  इमारत से सीढ़ियों के जरिए ही बाहर निकला जा सकता था और यही एकमात्र निकास मार्ग था। अग्निशमन कर्मियों ने बताया कि ज्यादातर लोगों की मौत इमारत से कूदने या जलने या दम घुटने से हुई। दमलकल कर्मियों ने आग पर देर रात साढ़े 12 बजे काबू पा लिया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Parminder Kaur

Recommended News

Related News