See More

फर्जी लाइसेंस मामलाः अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइनों ने पाक पायलटों की जांच शुरू की

2020-06-30T16:08:54.703

इस्लामाबादः पाकिस्तान के 262 पायलटों के पास फर्जी लाइसेंस होने का खुलासा होते ही कतर एयरवेज समेत कई अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइनों ने पाकिस्तानी पायलटों के खिलाफ जांच शुरू कर उन्हें अगले नोटिस तक काम से रोक दिया है। इससे पहले मदहाली से जूझ रही पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन (PIA) ने पिछले सप्ताह ‘संदिग्ध लाइसेंस’ वाले 150 पायलटों का काम पर आने से मना कर दिया था। 22 मई को कराची विमान हादसे की जांच रिपोर्ट में इस त्रासदी के लिए पायलटों एवं विमान यातायात नियंत्रण कक्ष को जिम्मेदार पाया गया है।

 

बता दे कि कराची हादसे में 97 लोगों की जान चली गई थी । मीडिया रिपोर्ट के अनुससार कुवैत एयरलाइन ने सात पाकिस्तानी पायलटों एवं 56 इंजीनियरों को घर बिठा दिया है जबकि कतर एयरवेज, ओमान एयर और वियतनाम एयरलाइनंस ने पाकिस्तानी पायलटों, इंजीनियरों और अन्य कर्मियों की सूची बनायी है। इन कंपनियों ने कहा है कि जिनके नाम इन सूचियों में हैं, वे तबतक काम पर नहीं आयेंगे जबतक पाकिस्तानी अधिकारियों से रिपोर्ट नहीं मिल जाती। अखबार के अनुसार पीआईए के एक प्रवक्ता ने शनिवार को बताया कि कपंनी ने विदेशी मिशनों, वैश्विक विनियामकीय और सुरक्षा संगठनों को पत्र लिखकर उन्हें आश्वासन दिया है कि उसने गलत तरीके से लाइसेंस पाने के संदेह में सभी 141 पायलटों को काम पर आने से मना कर दिया है।

 

इस पत्र पर PIA के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरशद मलिक का दस्तखत है। पाकिस्तान के नागर विमानन मंत्री गुलाम सरवर ने पिछले सप्ताह कहा था कि सरकार ने विभिन्न वाणिज्यिक एयरलाइनों, फ्लाइंग क्लबों और चार्टर कंपनियों से 262 पायलटों को तबतक घर पर बिठा देने को कहा है जबतक उनकी योग्यता की जांच पूरी नहीं हो जाती। पिछले महीने कराची में पीआईए के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने की प्राथमिक जांच के बाद यह कदम उठाया गया है। इस जांच में पाया गया कि पायलट मानक प्रक्रिया का पालन करने में विफल रहे। वैश्विक सुरक्षा एवं परिवहन निकायों ने कथित संदिग्ध लाइसेंसों पर चिंता प्रकट की और कहा कि वे इस विषय पर गौर कर रहे हैं।


Tanuja

Related News