विजयादशमी और दशहरा में क्या है अंतर, यकीनन आप होंगे अंजान

2020-10-23T15:43:22.967

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
प्रत्येक वर्ष शारदीय नवरात्रि के खत्म होते ही दशहरे का पर्व मनाया जाता है। तो वहीं धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू धर्म के ग्रंथों व शास्त्रों में वर्णन मिलता है कि इस दिन श्री राम ने रावण का वध कर उस पर विजय प्राप्त की थी। जिस कारण देश के कोने-कोने में लोग रावण दहन कर बुराई पर अच्छाई की विजय का झंडा लहराते हैं। इसके अलावा बता दें चूंकि इस शारदीय नवरात्रि का पर्व समाप्त होता है, इसलिए दशहरे के दिन देवी दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है। कुछ लोग इसे दशहरे के नाम से जानते हैं तो कुछ लोग दशहरा कहते हैं। मगर इस दिन को 2 नामों से क्यो जाना जाता है। और क्या इनमें कोई फर्क है, क्या इन नामों से कोई अन्य मान्यता जुड़ी है। अगर आपके मन में भी ये सवाल आ रहे हैं, तो चलिए हम आपको बताते हैं कि दशहरा और विजयदशमी में क्या कोई अंतर है या नहीं।
PunjabKesari, Dussehra 2020, Dussehra, Vijayadashami, Vijayadashami 2020, dussehra 2020 start date, navratri dussehra 2020, navratri 2020 date in india calendar, dussehra 2020 start date and end date, Vijayadashami and Dussehra, Story of Vijayadashami and Dussehra, Dvi Durga, Mahishasur
प्राचीन काल की मान्यताओं की मानें तो प्राचीन काल से अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी को विजयदशमी का उत्सव मनाया जा रहा है। तो वहीं जब श्री राम ने इसी दिन लंकापति रावण का वध कर दिया तो इस दिन को दशहरा के नाम से जाना जाने लगा। यानि इससे ये बात स्वष्ट होती है कि विजयदशमी का पर्व रावण के वध से पहले से मनाया जा रहा है। तो आइए जानते हैं इससे जुड़ी मान्यताएं-

धार्मिक मान्याताएं कि देवी दुर्गा ने इस दिन यानि विजयदशमी को माता दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था। कथाओं के अनुसार महिषासुर रंभासुर का पुत्र था, जो अत्यंत शक्तिशाली था। जिसने कठोर तक करके ब्रह्मा जी को प्रसन्न किया और वरदान मांगा। ब्रह्मा जी ने प्रकट होकर उसे कहा- 'हे वत्स! एक मृत्यु को छोड़कर, सबकुछ मांगों। जिसके बाद महिषासुर ने बहुत सोच विचार कर कहा- 'ठीक है प्रभो। आप मुझे ये वरदान दें कि किसी देवता, असुर और मानव किसी से मेरी मृत्यु न हो। केवल स्त्री के हाथ से मेरी मृत्यु निश्चित हो। ब्रह्माजी 'एवमस्तु' कहकर अंतर्ध्यान हो गए। ब्रह्मा जी से ये वर प्राप्त करने के बाद महिषासुर ने तीनों लोकों पर अपना अधिकार जमा लिया और त्रिलोकाधिपति बन गया। उसके अत्याचारों से परेशान होकर तब सभी देवताओं ने देवी भगवती महाशक्ति की आराधना की।
PunjabKesari, Dussehra 2020, Dussehra, Vijayadashami, Vijayadashami 2020, dussehra 2020 start date, navratri dussehra 2020, navratri 2020 date in india calendar, dussehra 2020 start date and end date, Vijayadashami and Dussehra, Story of Vijayadashami and Dussehra, Dvi Durga, Mahishasur
कहा जाता है तब समस्त देवताओं के शरीर से एक दिव्य तेज निकलकर परम सुंदरी स्त्री प्रकट हुई थी।जिसके बाद हिमवान ने देवी भगवती को सवारी के लिए सिंह दिया, तथा अन्य सभी देवताओं ने अपने-अपने अस्त्र-शस्त्र महामाया की सेवा में प्रस्तुत किए। भगवती ने देवताओं पर प्रसन्न होकर उन्हें शीघ्र ही महिषासुर के भय से मुक्त करवाने का आश्वासन दिया। कथाओं के अनुसार देवी मां ने पूरे 9 दिन तक लगातार महिषासुर से युद्ध करने के बाद 10वें दिन उसका वध कर दिया। मान्यता है कि इसी उपलक्ष्य में विजयादशमी का उत्सव मनाया जाता है। बता दें कथाओं में वर्णन मिलता है ति महिषासुर एक असुर अर्थात दैत्य था, राक्षस नहीं।

इसके अलावा विजयदशमी के दिन ही प्रभु श्रीराम और रावण का युद्ध कई दिनों तक चलने के बाद समाप्त हुआ था। श्री राम ने रावण का वध करके देवी सीता को उसके चंगुल से छुड़ाया था। जिसके उपलक्ष्य में दशहरे का पर्व मनाया जाता है। बता दें रावण का वध दशमी के दिन किया गया था, रावण एक राक्षस था, असुर नहीं था।

तो वहीं कुछ मान्यताएं ये भी हैं कि इसी दिन अर्जुन ने कौरव सेना के लाखों सैनिकों को मारकर कौरवों को पराजित किया था, जिसे अधर्म पर धर्म की जीत माना गया था।
PunjabKesari, Dussehra 2020, Dussehra, Vijayadashami, Vijayadashami 2020, dussehra 2020 start date, navratri dussehra 2020, navratri 2020 date in india calendar, dussehra 2020 start date and end date, Vijayadashami and Dussehra, Story of Vijayadashami and Dussehra, Dvi Durga, Mahishasur         

 

 


Jyoti

Related News