घर में चाहते हैं देवी-देवताओं का वास तो 21 दिन तक लगातार करें ये काम

punjabkesari.in Wednesday, Nov 10, 2021 - 03:35 PM (IST)

 शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हर कोई चाहता है कि उसके जीवन में केवल खुशियां व तरक्की हो परंतु कहा जाता है दुनिया में कोई भी चीज़ केवल चाहने से प्राप्त नहीं होती बल्कि छोटी-छोटी से चीज को पाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। तो वहीं वास्तु शास्त्र में कहा गया है कुछ इच्छाओं की पूर्ति के लिए विभिन्न प्रकार के उपाय आदि कर सकते हैं। आज हम आपको वास्तु शास्त्र में बताए गए ऐसे ही कुछ टिप्स के बारें में बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाने से आपके घर व जीवन चमत्कार होने लगेंगे। जी हां कहा दरअसल वास्तु में दिशाओं आदि के अलावा घर के लगभग हर हिस्से से जुड़ी खास बातें बताई गई है। तो आइए बिल्कुल भी देर न करते हुए जानेंगे इस खास जानकारी के बारे में- 

वास्तु विशेषज्ञ बताते हैं जिस व्यक्ति के जीवन के हर कार्य में कोई न कोई बाधा आ रही हो तो इसका अर्थात होताा है कि उसके घर में देवी-देवताओं का वास नहीं होता। तो अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ हो रहा है तो व्यक्ति को चाहिए कि अपने घर में आगे बताए गए उपाय करने चाहिए। कहा जाता है जिस घर में पवित्रता नहीं होती वहां न तो देवी-देवताओं का वास होता न ही वहां रह रहे लोगों के कार्य बनते हैं और जीवन में से सुख-समृद्धि चली जाती है।

यहां जानें कैसे करें अपने घर को शुद्ध-

प्रत्येक सूर्यास्त के समय लगातार 21 दिन तक गाय का आधा किलो कच्चा दूध लें।

उसमें नौ बूंद शुद्ध शहद मिलाएं और एक अच्छे साफ-सुथरे बर्तन में डालकर इस जल से स्नान करें।

इसके बाद शुद्ध वस्त्र पहनकर मकान की ऊपरी छत से नीचे तक प्रत्येक कमरे, जीने, गैलरी आदि में उस दूध के छिड़का दें।

अब मुख्य द्वार तक आएं और द्वार के बाहर बचे हुए शेष दूध को धार से वहीं गिरा दें। ध्यान रहे इस प्रक्रिया को करते हुए अपने इष्टदेव का स्मरण अवश्य करते रहें।

वास्तु विशेषज्ञ के अनुसार लगाताार 21 दिनों तक ऐसा करने से घर व्यक्ति के जीवन की प्रत्येक प्रकार की बाधाओं का नाश होता है। बताया जाता है घर को पवित्र और शुद्ध रखने का यह पौराणिक उपाय है।

मान्यता है 21 दिनों के बाद व्यक्ति को स्वयं घर और मन में असीम शांति की अहसास होता है साथ ही साथ जीवन में सफलता और खुशियों का हकदार बनता है। 

( नोट- उपरोक्त सारे उपाय वास्तु शास्त्र की मान्यताओं पर आधारित है। )


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News