See More

15 मई को होगा बद्रीनाथ धाम का कपाट उद्घाटन, जानें गाड़ू घड़ा तेल कलश यात्रा से जुड़ी खास जानकारी

2020-05-13T17:42:03.427

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
जैसे कि सब जानते हैं कि कोरोना वायरस की चलते सभी तीर्थ स्थलों के कपाट बंद किए गए थे परंतु अब धीरे-धीरे करके अब तमाम तीर्थ स्थलों को खोला जा रहा है। मगर फिर हार इन तीन स्थलों पर आम श्रद्धालुओं को जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है खबरों की मानें तो केवल राज्य के उन लोगों को ही तीर्थ स्थलों पर जाने की अनुमति दी जा रही है जिनका शहर ग्रीन या और इसमें है। अपनी वेबसाइट के माध्यम से हम पहले ही आपको यह बता चुके हैं कि केदारनाथ के कपाट खोल दिए गए हैं। इसी बीच अब हम जानकारी लेकर आए हैं बद्रीनाथ धाम की। खबरों के अनुसार बीते मंगलवार विधि विधान व पारंपरिक पूजा के साथ गाड़ू घड़ा तेल कलश यात्रा दिन भर से बद्रीनाथ के लिए रवाना हो गई है। कहा जा रहा है जोशीमठ वह पांडुकेश्वर से होते हुए 14 मई को बद्रीनाथ पहुंचेगी और 15 मई को कपाट उद्घाटन के दौरान तेल कलश गर्भ गृह में पहुंच जाएगा।

PunjabKesari,Char Dham, Badrinath, चार धाम, बद्रीनाथ, बद्रीनाथ धाम, Tel kalash yatra, Dimmer to badrinath, Corona Virus, Covid 19, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu Teerth Sthal
आपकी जानकारी के लिए बता दें 6 मई को डिम्मर 513 कलश को खांडू देवता के मंदिर में पूछना करने के बाद गांव के लक्ष्मी नारायण मंदिर में रखने के बाद 6 दिनों तक यहां परंपरिक पूजा अनुष्ठान संपन्न किया गया। जिसके बाद बीते दिन मंगलवार सुबह मंदिर के पुजारियों द्वारा वैदिक मंत्रोचार के साथ भगवान लक्ष्मी नारायण और तेल की विधिवत पूजा की गई।

PunjabKesari,Char Dham, Badrinath, चार धाम, बद्रीनाथ, बद्रीनाथ धाम, Tel kalash yatra, Dimmer to badrinath, Corona Virus, Covid 19, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu Teerth Sthal
और इसके बाद तेल क्रश यात्रा को डिम्मर गांव से विदा किया गया। जिसके बाद यात्रा बगड़, सिमली, पाडली होते हुए कर्णप्रयाग व लगांसू पहुंची। खबरों की मानें तो यहां करना संक्रमण के चलते ना तो यात्रा कहीं भी बीच में रुकी और ना ही लोग यहां के दर्शन के लिए जमा हुए। बल्कि जिसकी नजर जहां से भी पड़ी उसने वहीं से यात्रा पर फूलों का अर्पण कर उसका स्वागत किया। बता दे मंगलवार को जोशीमठ नरसिंह मंदिर में रुकने के बाद 13 मई को यात्रा पांडुकेश्वर पहुंची जबकि 14 मई को यात्रा बद्रीनाथ पहुंचेगी।
PunjabKesari,Char Dham, Badrinath, चार धाम, बद्रीनाथ, बद्रीनाथ धाम, Tel kalash yatra, Dimmer to badrinath, Corona Virus, Covid 19, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu Teerth Sthal


Jyoti

Related News