जानें, मरने के बाद कहां जाएंगे आप स्वर्ग या नरक

punjabkesari.in Friday, Mar 10, 2023 - 08:57 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Inspirational Story: हाजी इकबाल एक मुसलमान संत थे। वह साठ बार हज कर आए थे और अत्यंत नियमपूर्वक पांचों वक्त की नमाज पढ़ा करते थे। एक दिन उन्होंने सपना देखा- एक फरिश्ता स्वर्ग और नरक के बीच खड़ा है। वह लोगों को उनके कर्मों के अनुसार स्वर्ग या नरक में भेज रहा है।

PunjabKesari Religious Katha

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

जब हाजी इकबाल सामने आए तो उसने पूछा, ‘‘तुमने क्या-क्या अच्छे और शुभ कर्म किए हैं?’’ मैंने साठ बार हज किया है, हाजी ने जवाब दिया।

PunjabKesari Religious Katha

यह तो सच है, मगर नाम पूछे जाने पर तुम गर्व से ‘मैं हाजी मोहम्मद हूं’ कहते रहे हो। इस गर्व के कारण तुम्हारा हज करने का पुण्य नष्ट हो गया। तुमने और कोई दूसरा अच्छा काम किया हो तो बताओ। मैं साठ साल से पांचों वक्त की नमाज पढ़ता रहा हूं। तुम्हारा वह पुण्य भी नष्ट हो गया। एक दिन बाहर से धर्म जिज्ञासु तुम्हारे पास आए थे। तुमने उन्हें दिखाने की गरज से उस दिन और दिनों से ज्यादा देर तक नमाज पढ़ी थी।

PunjabKesari Religious Katha

इस दिखावे के भाव की वजह से तुम्हारी वह साठ बरस की तपस्या भी नष्ट हो गई। इसके बाद हाजी की आंखें खुल गईं। उन्होंने गरूर और नुमाइश से हमेशा के लिए तौबा कर ली। इबादत का पुण्य तभी मिलता है जब वह अपने लिए की जाए।

दूसरों को दिखाने या उन पर असर डालने के इरादे से की गई इबादत का असर खत्म हो जाता है।

PunjabKesari kundli
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News