Muni Shri Tarun Sagar: यह तुम्हारे किसी जन्म का पुण्यफल है...

punjabkesari.in Tuesday, Mar 22, 2022 - 11:17 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

भगवान हर हाल में अच्छे हैं
बचपन में मां सबसे अच्छी लगती है, जवानी में पत्नी, बुढ़ापे में पोता सबसे अच्छा लगता है और मौत के समय ? मौत के समय भगवान सबसे अच्छे लगते हैं परंतु सिर्फ मौत के समय भगवान अच्छे लगें, वह कोई अच्छी बात नहीं है। भगवान तो हर हाल में अच्छे हैं, सच्चे हैं।

PunjabKesari

पुत्र-वधू की सेवा के पुण्य को भोगना
वह हमारे पिता हैं और हम उनके बच्चे हैं, वह परिपक्व और हम अभी कच्चे हैं। भगवान तो हर हाल में अच्छे हैं, सच्चे हैं।
पुत्र तुम्हारी सेवा करे तो यह कोई आश्चर्य नहीं। वह तो करेगा ही क्योंकि वह आखिर तुम्हारा ही खून है, लेकिन यदि पुत्रवधू सेवा करे तो यह आश्चर्य है। वह तुम्हारा खून तो दूर, तुम्हारे खानदान तक की भी नहीं है, फिर भी सेवा कर रही है तो निश्चित ही यह तुम्हारे किसी जन्म का पुण्य-फल है। 

आज के समय में सब तरह के पुण्य भोगना बहुत से लोगों की किस्मत में है, लेकिन पुत्रवधू की सेवा के पुण्य को भोगना विरले ही मां-बाप के भाग्य में है। 

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar

अच्छा पड़ोसी आशीर्वाद है
पड़ोसी धर्म को निभाइए। पड़ोसी धर्म क्या है ? यही कि आप भोजन अवश्य करें मगर इस बात का ख्याल रखें कि कहीं आपका पड़ोसी भूखा न रह जाए! 

अच्छा पड़ोसी आशीर्वाद है, पड़ोसी के साथ कभी बिगाड़ें मत क्योंकि हम मित्रों के बिना तो जी सकते हैं, लेकिन पड़ोसी के बिना नहीं। 

पड़ोसी के सुख-दु:ख में सहभागी बनिए।  यदि पड़ोसी के घर में आग लगी है, तो समझना तुम्हारी अपनी सम्पत्ति भी खतरे में है। और हां, अगर तुम आज पड़ोसी के यहां नमकीन भेजते हो तो कल वहां से मिठाई जरूर आएगी। 

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar

सभी आत्माएं एक समान 
‘‘मुनिश्री, एक तरफ तो आप कहते हैं कि सभी आत्माएं एक समान हैं। फिर प्रवचन के दौरान आप ऊंची चौकी पर और हमें नीचे जमीन पर बिठाते हैं। इसका मतलब तो यही हुआ कि आप अपने को बड़ा और हमें छोटा समझते हैं।’’

‘‘चौकी पर बैठना मुनि तरुणसागर का शौक नहीं है, मजबूरी है। एक व्यवस्था के तहत मुझे इस चौकी पर बैठना पड़ता है। बावजूद इसके एक अपेक्षा से मैं छोटा और आप बड़े हैं। इसका कारण यह है कि मैं चौकी पर बैठा हूं तो मैं ‘चौकीदार’ हुआ और आप जमीन पर बैठे हैं तो आप ‘जमींदार’ हुए।’’ 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News