Motivational Concept: अन्तहीन तृष्णा का कोई पार नहीं

punjabkesari.in Monday, Oct 03, 2022 - 11:16 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
अफगानिस्तान, ब्लूचिस्तान, बैबीलोनिया, फारस आदि को जीतता हुआ सिकन्दर अपनी विराट सेना के साथ भारत पर चढ़ आया। भारत के जिस राज्य पर आक्रमण होने वाला था, वहां के राजा को जैसे ही पता लगा, तुरन्त वह लड़ने से पूर्व सिकन्दर से मिलने गए। वह सिकन्दर के पास पहुंचे और बोले कि मैं आपसे संधि करना चाहता हूं, आप मुख्य अमात्यों के साथ मेरे यहां भोजन के लिए पधारें।

PunjabKesari Motivational Concept, Inspirational Theme, Motivational Theme, Inspirational Story, Punjab Kesari Curiosity, Religious theme, Dharm, Punjab Kesari

सिकन्दर ने निमंत्रण स्वीकार कर लिया और अपनी सुरक्षा का पूर्ण बंदोबस्त कर मुख्य अमात्यों के साथ राजमहल में पहुंचा और योग्य स्थान पर जाकर बैठ गया। सामने की मेज पर थाल सजाकर रखे थे, जो बढ़िया रेशम के रूमाल  से ढके थे। ज्यों ही सिकन्दर ने थाल पर से रूमाल हटाया तो उसके आश्चर्य का ठिकाना न रहा, उसमें भोजन के स्थान पर हीरे, पन्ने, माणक, मोती आदि जवाहरात थे।

सिकन्दर-यह क्या मजाक है?

PunjabKesari v

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari

राजा-यह मजाक नहीं है किन्तु आपकी भूख के अनुरूप ही भोजन परोसा गया है। पेट तो अन्न से भरता है, उसकी कमी आपके देश मैसिडोनिया में भी नहीं थी, पर आपकी भूख हीरे, पन्ने आदि को प्राप्त करने की थी, इसीलिए आप एक देश से दूसरे देश पर आक्रमण कर वहां के जन-जीवन को बर्बाद कर रहे हैं। आपकी अन्तहीन तृष्णा का कोई पार नहीं है।
सिकन्दर इस प्रश्र का उत्तर न दे सका। उसे अपने कृत्यों पर ग्लानि हुई और वह पुन: अपने देश लौट गया।

PunjabKesari Motivational Concept, Inspirational Theme, Motivational Theme, Inspirational Story, Punjab Kesari Curiosity, Religious theme, Dharm, Punjab Kesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News