महात्मा बुद्ध: तमाशा देखने वाले न बनें

punjabkesari.in Monday, Apr 25, 2022 - 11:36 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
महात्मा बुद्ध को एक सभा में भाषण करना था। जब समय हो गया तो महात्मा बुद्ध आए और बिना कुछ बोले ही वहां से चले गए। तकरीबन 150 श्रोता थे। दूसरे दिन तकरीबन 100 लोग थे पर फिर उन्होंने ऐसा ही किया बिना बोले चले गए। इस बार 50 कम हो गए। तीसरा दिन हुआ 60 के करीब लोग थे, महात्मा बुद्ध आए इधर-उधर देखा और बिना कुछ कहे वापस चले गए। चौथा दिन हुआ तो कुछ लोग और कम हो गए बुद्ध तब भी नहीं बोले। जब पांचवां दिन हुआ तो देखा सिर्फ 14 लोग थे।
PunjabKesari, Mahatma Budha, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm
महात्मा बुद्ध उस दिन बोले और चौदह लोग उनके साथ हो गए। किसी ने महात्मा बुद्ध को पूछा आपने चार दिन कुछ नहीं बोला। इसका क्या कारण था। तब बुद्ध ने कहा मुझे भीड़ नहीं काम करने वाले चाहिए थे। यहां वह ही टिक सकेगा जिसमें धैर्य हो जिसमें धैर्य था वह रह गए। केवल भीड़ ज्यादा होने से कोई धर्म नहीं फैलता है। समझने वाले चाहिए, तमाशा देखने वाले रोज इधर-उधर ताक-झांक करते हैं। समझने वाला धीरज रखता है। कई लोगों को दुनिया का तमाशा अच्छा लगता है। समझने वाला शायद एक हजार में एक ही हो ऐसा ही देखा जाता है।
Mahatma Budha, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News