Inspirational Story: जब सरदार वल्लभ भाई पटेल का ऐसा विरोध देखकर अध्यापकों को भी टेकने पड़े घुटने...

punjabkesari.in Friday, Dec 01, 2023 - 01:57 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Inspirational Story: घटना उस समय की है, जब सरदार वल्लभ भाई पटेल छठी कक्षा में पढ़ते थे। उनके एक अध्यापक बच्चों को जरा-जरा भी बात पर छड़ी से मारते थे। कुछ बच्चों और शिक्षकों ने भी उन्हें इस बात के लिए टोका लेकिन अध्यापक का रवैया बरकरार रहा। एक दिन उन्होंने एक निर्दोष बच्चे को बेवजह दंड दे दिया। उसकी छड़ी से खूब पिटाई की और उसे कक्षा से बाहर निकाल दिया। सभी बच्चे उस निर्दोष बच्चे की यह हालत देखकर सहम गए।

PunjabKesari Inspirational Story

वल्लभ भाई से अपने सहपाठी की ऐसी दशा देखी नहीं गई। आधी छुट्टी के समय वल्लभ भाई ने सभी विद्यार्थियों को इकट्ठा किया और उस विद्यार्थी व अध्यापक के बारे में सारी बातें बताईं। सभी विद्यार्थी यह अन्याय होते देखकर एकजुट हो गए और उन्होंने प्रण कर लिया कि जब तक अध्यापक अपनी गलती नहीं मानेंगे तब तक कोई भी विद्यार्थी स्कूल में नहीं पढ़ेगा। धीरे-धीरे यह बात स्कूल की संचालन समिति तक जा पहुंची। सभी अध्यापकों, प्रधानाचार्य और समिति के सदस्यों ने पुरजोर कोशिश की कि बच्चे फिर से स्कूल में आ जाएं किंतु बच्चे टस से मस नहीं हुए और उन्होंने कहा कि जब तक अध्यापक इस बात का प्रण नहीं लेंगे कि बेवजह किसी छात्र को नहीं पीटा जाएगा तब तक वे स्कूल में नहीं आएंगे।

PunjabKesari Inspirational Story

कुछ शिक्षकों और अभिभावकों ने वल्लभ भाई के इस निर्णय को अनुशासनहीनता करार दिया मगर उन्होंने साफ कह दिया कि वे किसी गलत उद्देश्य से ऐसा नहीं कर रहे हैं। आखिरकार प्रधानाचार्य ने सभी विद्यार्थियों का नेतृत्व करने वाले वल्लभ भाई को बुलाया और यह समझौता किया कि आगे से कभी भी बच्चों को बेवजह दंडित नहीं किया जाएगा। तब वल्लभ भाई ने हड़ताल समाप्त की और सभी विद्यार्थी स्कूल में पढ़ने के लिए गए। वल्लभ भाई में नेतृत्व का यह गुण बाद में और मजबूत हुआ।

PunjabKesari Inspirational Story


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Prachi Sharma

Recommended News

Related News