Guru Pradosh Vrat : आज गुप्त रुप से करें ये काम, भगवान शिव देंगे सुख-समृद्धि का वरदान

punjabkesari.in Thursday, Feb 02, 2023 - 07:03 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Guru Pradosh Vrat 2023: हिंदू पंचांग के अनुसार हर मास के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है। आज के दिन माह का पहला प्रदोष रखा जाएगा। गुरुवार होने के कारण इसे गुरु प्रदोष कहा जाता है। प्रदोष के दिन विधि पूर्वक भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करने से जीवन भर भोलेनाथ का आशीर्वाद बना रहता है। अगर कोई आज के दिन व्रत नहीं रख सकता तो बस काले तिल के द्वारा इन छोटे-छोटे उपायों को जरूर कर लें।

PunjabKesari Guru Pradosh Vrat

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

Guru Pradosh Ke Upay गुरु प्रदोष के उपाय:

For good health अच्छी सेहत के लिए
माघ माह में आने वाले प्रदोष व्रत की खासियत और भी ज्यादा बढ़ जाती है। माघ महीने में काले तिल का बहुत महत्व होता है। तो अगर किसी के घर में कोई व्यक्ति बीमार है तो उसे आज काले तिल का दान जरूर करना चाहिए। ऐसा करने से धीरे-धीरे सेहत में बदलाव देखने को मिलेगा।

To make married life happy वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए
वैवाहिक जीवन को खुशहाल बनाने के लिए शिव जी का गुड़ और काले तिल से अभिषेक करें। ऐसा करने से जीवन में गुड़ की तरह मिठास बनी रहेगी। अगर कुंवारे यह उपाय करेंगे तो उन्हें मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त होगा।

PunjabKesari Guru Pradosh Vrat

For prosperity सुख-समृद्धि के लिए
अगर घर में आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है तो गुरु प्रदोष के दिन पक्षियों के लिए काले तिल छत पर डालें। ऐसा करने से जल्द ही आई हुई परेशानियां खत्म हो जाती हैं।

To remove planetary defects ग्रह दोष निवारण के लिए
अगर किसी की कुंडली में शनि, राहु और केतु दोष बने हुए हैं तो उस प्रभाव को काम करने के लिए काले तिल से शिवलिंग पर अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता है।  

PunjabKesari Guru Pradosh Vrat

To ward off the evil eye बुरी नजर से बचने के लिए
बुरी नजर के प्रभाव को कम करने के लिए शिवलिंग पर एक चुटकी काले तिल गंगा जल में डाल कर चढ़ाएं। इस दौरान ऊं नम: शिवाय मंत्र जाप जरूर करें।

PunjabKesari kundli


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News