Dharmik Katha: द्रोणाचार्य की गुरु दक्षिणा

punjabkesari.in Friday, Mar 25, 2022 - 10:54 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
गुरु द्रोणाचार्य ने अपने शिष्यों को धर्मशास्त्रों के साथ-साथ धनुॢवद्या की भी शिक्षा दी। उन्होंने देखा कि सभी शिष्यों में अर्जुन अधिक मेधावी तथा सेवा भावी है। उन्होंने अर्जुन को गुरुकुल से विदा करते समय एक दिव्य अस्त्र प्रदान किया जिसमें समूची पृथ्वी को जला डालने की अनूठी क्षमता थी। गुरु द्रोण ने अस्त्र प्रदान करने के बाद कहा, ‘‘वत्स अर्जुन इस अस्त्र का प्रयोग बहुत सोच-समझ कर तथा अंतिम अस्त्र के रूप में ही करना, वर्ना तुम भीषण नरसंहार व विध्वंस के पाप के भागी हो जाओगे।’’ 
PunjabKesari, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm, Punjab Kesari

अर्जुन ने नतमस्तक होकर उनके आदेश का पालन करने का आश्वासन दिया। गुरु द्रोणाचार्य ने कहा, ‘‘अब मुझे दक्षिणा चाहिए।’’                                                                                                                                                                  
अर्जुन ने विनीत होकर कहा, ‘‘गुरुदेव, आप जो भी मांगेंगे मैं उसे देने के लिए इसी समय तैयार हूं।’’ 
PunjabKesari, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm, Punjab Kesari
द्रोण ने कहा, ‘‘मुझे वचन दो कि यदि मैं भी किन्हीं परिस्थितियों के वशीभूत होकर धर्मपक्ष के विरुद्ध रणक्षेत्र में खड़ा दिखाई दूं तो तुम मेरा भी डटकर मुकाबला करने को तैयार रहोगे। उस समय मुझे गुरु  के रूप में न देखकर अधर्म पक्ष का मानकर मुझ पर प्रहार करने में कोई कसर नहीं रखोगे। यही मेरी गुरु दक्षिणा है।’’

अर्जुन अपने गुरु के वचन  सुनकर हत्प्रभ रह गए और उनसे कुछ कहते न बना।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News