Dharmik Katha: आसक्ति का मन से त्याग जरूरी

punjabkesari.in Wednesday, Apr 20, 2022 - 11:13 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
एक नव-दीक्षित शिष्य ने अपने गुरुदेव से कहा, ‘‘उपासना में मन नहीं लगता। भगवान की ओर चित दृढ़ नहीं होता।’’ 
PunjabKesari Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm
गुरु ने गंभीर दृष्टि डालकर शिष्य को देखा और बोले, ‘‘सच ही कहते हो वत्स! यहां ध्यान लगेगा भी नहीं। अन्यत्र चलकर साधना करेंगे, वहां ध्यान लगेगा। आज सायंकाल ही यहां से प्रस्थान करेंगे।’’ 

सायंकाल! शिष्य कुछ चिंतित स्वर में प्रश्र कर बैठा, जिसका गुरु ने कोई उत्तर न दिया।

सूर्यास्त के साथ ही वे दोनों एक ओर चल पड़े। गुरु के हाथ में मात्र एक कमंडल था, शिष्य के हाथ में थी एक झोली जिसे वह बहुत यत्नपूर्वक संभाले हुए चल रहा था। मार्ग में एक कुआं आया। शिष्य ने शौच की आशंका व्यक्त की। दोनों रुक गए। बहुत सावधानी से उसने झोला गुरु के पास रखा और शौच के लिए चल दिया। जाते-जाते उसने कई  बार झोले की ओर दृष्टि डाली। 

‘‘कुछ देर बाद एक आवाज सुनाई दी और झोले में पड़ी कोई वस्तु कुएं में जा समाई।’’ 

शिष्य दौड़ा हुआ आया और चिंतित स्वर में बोला, ‘‘भगवन्! झोले में सोने की ईंट थी वह कहां गई?’’ 
PunjabKesari Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Motivational Concept, Dharm

कुएं में चली गई, अब कहो तो चलें, कहो तो फिर वहीं लौट चलें जहां से आए हैं, अब ध्यान न लगने की चिंता न रहेगी। एक गहरी श्वास छोड़ते हुए शिष्य ने कहा, ‘‘सच ही गुरुदेव! आसक्ति का मन से त्याग किए बिना कोई भी किसी काम में मन नहीं लगा सकता।’’


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News