Brahma Muhurta : ‘अमृत वेला’ करता है हर इच्छा पूरी

2021-05-04T07:23:51.903

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Brahmamuhurtha: रात्रि के अंतिम प्रहर को ब्रह्म मुहूर्त कहते हैं। हमारे ऋषि-मुनियों ने इस मुहूर्त का विशेष महत्व बताया है। उनके अनुसार यह समय निद्रा त्याग के लिए सर्वोत्तम है। ब्रह्म मुहूर्त में उठने से सौंदर्य, बल, विद्या, बुद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। सूर्योदय से चार घड़ी (लगभग डेढ़ घंटे) पूर्व ब्रह्म मुहूर्त में ही जाग जाना चाहिए। इस समय सोना शास्त्र निषिद्ध है। ब्रह्म का मतलब है परम तत्व या परमात्मा। मुहूर्त यानी अनुकूल समय। रात्रि का अंतिम प्रहर अर्थात प्रात: 4 से 5.30 बजे का समय ब्रह्म मुहूर्त कहा गया है।
‘ब्रह्ममुहूर्ते या निद्रा सा पुण्यक्षयकारिणी।’  (ब्रह्म मुहूर्त की निद्रा पुण्य का नाश करने वाली होती है।)

PunjabKesari Brahma Muhurta
सिख धर्म में इस समय के लिए बेहद सुंदर नाम है ‘अमृत वेला’ जिससे इस समय का महत्व स्वयं ही साबित हो जाता है। ईश्वर भक्ति के लिए यह सर्वश्रेष्ठ समय है। इस समय उठने से मनुष्य को सौंदर्य, लक्ष्मी, बुद्धि, स्वास्थ्य आदि की प्राप्ति होती है। उसका मन शांत व मन पवित्र होता है।

ब्रह्म मुहूर्त में उठना हमारे जीवन के लिए बहुत लाभकारी है। इससे हमारा शरीर स्वस्थ होता है और दिन भर स्फूर्ति बनी रहती है। स्वस्थ रहने और सफल होने का यह ऐसा फार्मूला है, जिसमें खर्च कुछ नहीं होता। केवल आलस्य छोड़ने की जरूरत है।
PunjabKesari Brahma Muhurta
पौराणिक महत्व : भगवान वाल्मीकि रचित ‘रामायण’ के अनुसार माता सीता को ढूंढते हुए श्री हनुमान ब्रह्म मुहूर्त में ही अशोक वाटिका पहुंचे थे, जहां उन्होंने वेद एवं यज्ञ के ज्ञाताओं के मंत्र उच्चारण का स्वर सुना शास्त्रों में भी इसका उल्लेख है : वर्णं र्कीत मतिं लक्ष्मीं स्वास्थ्यायुर्व वदन्ति। ब्राह्मे मुहूर्ते संजाग्रच्छि वा पंकज यथा।।

अर्थात : ब्रह्म मुहूर्त में उठने से व्यक्ति को सुंदरता, लक्ष्मी, बुद्धि, स्वास्थ्य, आयु आदि की प्राप्ति होती है। ऐसा करने से शरीर कमल की तरह सुंदर हो जाता है।

PunjabKesari Brahma Muhurta

ब्रह्म मुहूर्त और प्रकृति
ब्रह्म मुहूर्त और प्रकृति का गहरा नाता है। इस समय में पशु-पक्षी जाग जाते हैं। उनका मधुर कलरव शुरू हो जाता है। ब्रह्म मुहूर्त में कमल का फूल भी खिल उठता है। मुर्गे बांग देने लगते हैं। एक तरह से प्रकृति भी ब्रह्म मुहूर्त में चैतन्य हो जाती है। यह प्रतीक है उठने और जागने का। प्रकृति हमें संदेश देती है ब्रह्म मुहूर्त में उठ जाने के लिए।

इसलिए मिलती है सफलता व समृद्धि
आयुर्वेद के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर टहलने से शरीर में संजीवनी शक्ति का संचार होता है। इसके अलावा यह समय अध्ययन के लिए भी सर्वोत्तम बताया गया है क्योंकि रात को आराम करने के बाद सुबह जब हम उठते हैं तो शरीर तथा मस्तिष्क में भी स्फूर्ति व ताजगी बनी रहती है।

ब्रह्म मुहूर्त के धार्मिक, पौराणिक एवं व्यावहारिक पहलुओं तथा लाभ को जानकर प्रतिदिन इस शुभ घड़ी में जागना शुरू करें तो बेहतर नतीजे मिलेंगे।

ब्रह्म मुहूर्त में उठने वाला व्यक्ति सफल, सुखी और समृद्ध होता है।  इसका कारण यह है कि जल्दी उठने से दिन भर के कार्यों और योजनाओं को बनाने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है। इसलिए न केवल जीवन सफल होता है, शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहने वाला हर व्यक्ति सुखी और समृद्ध हो सकता है। कारण, वह जो काम करता है उसमें उसकी प्रगति होती है। विद्यार्थी परीक्षा में सफल रहता है। नौकरी करने वाले से बॉस खुश रहता है। बिजनेसमैन अच्छी कमाई कर सकता है। जो समय का सदुपयोग करे और स्वस्थ रहे, सफलता उसके कदम चूमती है । अत: स्वस्थ और सफल रहना है तो ब्रह्म मुहूर्त में उठें।

 


Content Writer

Niyati Bhandari

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static