See More

2 घंटे के नोटिस पर एक कंपनी ने निकाले 300 कर्मचारी, आईटी सेक्टर में जा सकती हैं 1.5 लाख नौकरियां

2020-04-03T17:38:30.86

नई दिल्लीः कोरोना वायरस के कहर ने लोगों के रोजगार पर भी पड़ा है। पुणे की एक छोटी आईटी कंपनी ने इसी महीने 6 लोगों से जबरन इस्तीफा ले लिया। यही नहीं इसके कुछ दिनों बाद ही ट्रैवल टेक फर्म Fareportal ने 300 कर्मचारियों की छुट्टी कर दी। इन लोगों को महज दो घंटे के नोटिस पर ही कंपनी ने निकाल दिया। एचआर एक्सपर्ट्स और इंडस्ट्री के जानकारों के मुताबिक आने वाले 3 से 6 महीनों में आईटी सेक्टर के 1.5 लाख लोगों की नौकरी पर संकट पैदा हो सकता है। 

हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह संकट छोटी आईटी कंपनियों में ज्यादा देखने को मिलेगा क्योंकि वे अपने बड़े क्लाइंट्स के ऑर्डर्स पर निर्भर हैं और यदि क्लाइंट पर मंदी का असर होता है तो वे भी सीधे तौर पर प्रभावित होंगी। आईटी सेक्टर में भारत में करीब 50 लाख लोग कार्यरत हैं, जिनमें से 10 से 12 लाख कर्मचारी छोटी कंपनियों से ही जुड़े हैं। आईटी सेक्टर की टॉप 5 कंपनियों में ही अकेले 10 लाख लोग कार्यरत हैं। 

कोरोना वायरस के संकट के चलते कंपनियों के लिए पहले की तरह अपने बिजनेस को चलाना मुश्किल साबित हो रहा है। इसके अलावा पूरी ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री संकट के दौर से गुजर रही है। मैन्युफैक्चरिंग भी थम गई है। यहां तक कि दिग्गज टेक कंपनियों ऐपल और माइक्रोसॉफ्ट ने निवेशकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि आगामी तिमाही में उनके नतीजों पर कोरोना संकट का असर दिख सकता है।

इंडस्ट्री के एक एक्सपर्ट ने मनी कंट्रोल से बातचीत करते हुए कहा, ‘कई देशों में लॉकडाउन की स्थिति मई तक बढ़ सकती है। यह अनिश्चितता आने वाले समय में कंपनियों के फैसलों को प्रभावित कर सकती है।’ भले ही स्थितियां भविष्य में खराब होती नजर आ रही हैं, लेकिन ज्यादातर कंपनियों ने फिलहाल कर्मचारियों को बनाए रखने का फैसला लिया है। हालांकि कुछ छोटी कंपनियों ने छंटनी शुरू की है ताकि लागत में कमी लाई जा सके। गुरुग्राम स्थित ट्रैवल टेक कंपनी Fareportal ने 300 कर्मचारियों की एक साथ ही छुट्टी कर दी। इन लोगों को महज दो घंटे के नोटिस पर ही कंपनी ने निकाल दिया।


jyoti choudhary

Related News