यह है...‘भारत देश हमारा!’ जहां मर्यादाएं हो रहीं तार-तार

punjabkesari.in Wednesday, Jul 06, 2022 - 03:40 AM (IST)

हमारे देश में चंद लोगों के नैतिक और चारित्रिक पतन के नित नए उदाहरण सामने आते रहते हैं। जहां अनेक महिलाएं अपने पतियों और ससुरालियों के हाथों भी सुरक्षित नहीं हैं, वहीं बच्चियां न सिर्फ बेची जा रही हैं, बल्कि वे बाहरी लोगों के अलावा अपने सगे-सम्बन्धियों की यौन हिंसा का शिकार भी हो रही हैं, जो मात्र पिछले 10 दिनों की निम्र घटनाओं से स्पष्ट है : 

* 26 जून को राजस्थान के ‘पाली’ जिले में अपनी नाबालिग बेटी से बलात्कार करने के आरोप में उसके पिता तथा चाचा को पकड़ा गया। 
* 28 जून को लखीमपुर खीरी के एक गांव में 12 वर्षीय बच्ची को अपनी बड़ी बहन को अवैध संबंध बनाते देखना बहुत महंगा पड़ा। छोटी बहन घर वालों को यह बात बता न दे, इस डर से बड़ी बहन ने पहले तो अपने दोस्तों से उसका बलात्कार करवाया, फिर उसकी हत्या करवा दी। पुलिस ने इस सिलसिले में बड़ी बहन समेत 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।
* 29 जून को मध्य प्रदेश के ‘रीवा’ जिले में आम खाने की जिद कर रही अपने ननिहाल आई 4 वर्षीय मासूम बच्ची को आम खिलाने के बहाने ले जाकर उसके साथ बलात्कार करके गंभीर रूप से घायल कर देने के आरोप में उसके 50 वर्षीय मामा को पुलिस ने गिरफ्तार किया। 

* 30 जून को करतारपुर के गांव बिश्रामपुर में प्रवासी मजदूर ने किसी घरेलू विवाद के चलते अपनी बहन की गला घोंट कर हत्या कर दी। 
* 30 जून वाले दिन ही नई दिल्ली के जैतपुर इलाके में झगड़े के दौरान एक व्यक्ति ने रोटी सेंकने वाला तवा मार कर अपनी पत्नी के प्राण ले लिए। 
* 30 जून को ही कर्नाटक के ‘कोलार’ जिले में एक 32 वर्षीय व्यक्ति ने अपने 12 वर्षीय मासूम बेटे की गला घोंट कर हत्या करने के बाद उसकी लाश पानी की टैंकी में फैंक दी, क्योंकि उसने अपनी मां को अपने पिता की सट्टेबाजी की लत के बारे में बता दिया था। 
* 30 जून वाले दिन ही राजस्थान में बाड़मेर के ‘केरावा’ गांव में प्रेम प्रसंग के चलते एक 38 वर्षीय महिला राशन खरीदने के बहाने घर से निकल कर अपने 22 वर्षीय दामाद के साथ भाग गई और अगली सुबह दोनों के शव पेड़ से लटके हुए मिले। 

* 1 जुलाई को पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले के ‘डांगा’ गांव में दहेज के लोभी सास-ससुर ने अपनी बहू को उसकी 8 वर्षीय मासूम बेटी के सामने बिजली के नंगे तारों के साथ बांध कर करंट लगाया जिसके परिणामस्वरूप एक घंटे तक तड़पने के बाद उसकी मौत हो गई।
* 1-2 जुलाई की दरम्यानी रात को पटना में बिहार के एक पूर्व विधायक को भाड़े के हत्यारों से अपनी ही बेटी की हत्या करवाने का प्रयास करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।
* 2 जुलाई को मलोट के गांव ‘बाम’ में दीवार के झगड़े को लेकर एक युवक ने गोली मार कर अपने दादा और ताया की हत्या कर दी।
* 2 जुलाई को ही संगरूर शहर में अपने पति के किसी अन्य महिला के साथ अवैध संबंधों से दुखी महिला ने अपनी 5 वर्षीय बेटी की हत्या करने के बाद फांसी लगाकर अपनी जीवनलीला भी समाप्त कर ली। 

* 3 जुलाई को मध्यप्रदेश में ‘बीना’ जिले के ‘खुरई’ गांव में एक व्यक्ति को अपनी 17  वर्षीय नाबालिग बेटी को बहला-फुसला कर ले जाकर उसके साथ बलात्कार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।
* 3 जुलाई को ही ओडिशा के जाजपुर जिले में गरीबी से तंग एक पति-पत्नी के विरुद्ध अपनी नवजात बच्ची को किसी नि:संतान दम्पति को 7000 रुपए में बेचने के आरोप में केस दर्ज किया गया। 
*  3 जुलाई वाले दिन ही गाजीपुर के गांव ‘लोचाइन’ में एक बुजुर्ग की उसके बेटे और दोहते ने 4 एकड़ भूमि के लिए गला रेत कर हत्या कर दी। 
*  4 जुलाई को नई दिल्ली के जैतपुर इलाके में एक 13 वर्षीय नाबालिगा से बलात्कार का वीडियो बनाकर वायरल करने की धमकी दे कर उसके साथ बार-बार बलात्कार करने के आरोप में उसके नजदीकी रिश्तेदार के विरुद्ध केस दर्ज किया गया। 

इस तरह का व्यवहार हमारे देश की उस संस्कृति का प्रतीक कदापि नहीं है जिस पर हम गर्व किया करते हैं। यही नहीं, इस तरह का अशोभनीय आचरण किसी भी पाश्चात्य देश में देखने को नहीं मिलता। अत: ऐसा करने वाले लोग कठोरतम दंड के अधिकारी ही हैं। लिहाजा  इस गलत रुझान को समाप्त करने के लिए हमारी धार्मिक और सामाजिक संस्थाओं के नेताओं को ऐसी घटनाओं की गहराई में जाकर इनके विरुद्ध समाज में प्रचार करने और इस मामले में लोगों को शिक्षित करने की जरूरत है।—विजय कुमार  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Related News

Recommended News