अक्तूबर-दिसम्बर में चीनी उत्पादन 26 प्रतिशत बढ़ा : इस्मा

Wednesday, January 3, 2018 5:11 PM
अक्तूबर-दिसम्बर में चीनी उत्पादन 26 प्रतिशत बढ़ा : इस्मा

नई दिल्ली : देश का चीनी उत्पादन मौजूदा सत्र की अक्तूबर-दिसम्बर की अवधि में 26 प्रतिशत बढ़कर 103.26 लाख टन हो गया। भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने यह जानकारी दी है। चीनी सत्र अक्तूबर से सितम्बर तक होता है। इससे पिछले सत्र की समान अवधि में मिलों ने 81.91 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था। इस्मा का अनुमान है कि चालू 2017-18 के सत्र में चीनी का कुल उत्पादन 251 लाख टन रहेगा। पिछले साल यह 202 लाख टन रहा था। इस साल चीनी की खपत 250 लाख टन रहने का अनुमान है।

प्रमुख उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र
ताजा आंकड़े जारी करते हुए इस्मा ने कहा कि चीनी उत्पादन वृद्धि में मुख्य योगदान 2 प्रमुख उत्पादक राज्यों उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र का रहा है। उत्तर प्रदेश में अक्तूबर-दिसम्बर में चीनी उत्पादन बढ़कर 38.80 लाख टन पर पहुंच गया, जो पिछले साल समान अवधि में 26.78 लाख टन रहा था। राज्य में चीनी की औसत रिकवरी दर ऊंचे स्तर पर 10.15 प्रतिशत रही। महाराष्ट्र में उत्पादन बढ़कर 38.24 लाख टन रहा, जो एक साल पहले समान अवधि में 25.35 लाख टन रहा था। चीनी की रिकवरी दर 10.23 प्रतिशत रही।

यह रही अन्य राज्यों की स्थिति 
तीसरे बड़े चीनी उत्पादक राज्य कर्नाटक में इस अवधि में उत्पादन बढ़कर 16.17 लाख टन पर पहुंच गया, जो एक साल पहले समान अवधि में 15.43 लाख टन रहा था। अक्तूबर-दिसम्बर में गुजरात में चीनी उत्पादन 3.70 लाख टन, आंध्र प्रदेश-तेलंगाना में 1.90 लाख टन, तमिलनाडु में 1.70 लाख टन, बिहार में 1.65 लाख टन, हरियाणा में 1.80 लाख टन, पंजाब में 1.60 लाख टन, उत्तराखंड में 1.20 लाख टन और मध्य प्रदेश में 1.30 लाख टन रहा।

सरकार ने सितंबर, 2017 में तीन लाख टन कच्ची चीनी के आयात की अनुमति दी थी। इस बारे में इस्मा ने कहा कि इसमें से 2.35 लाख टन कच्ची चीनी का आयात किया जा चुका है। इसमें से 2 लाख टन परिष्कृत चीनी है।  
 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन