शरीफ की ''घर वापसी'' रैली को नहीं मिला जनता का साथ

Thursday, August 10, 2017 8:21 PM
शरीफ की ''घर वापसी'' रैली को नहीं मिला जनता का साथ

इस्लामाबादः पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने 'घर वापसी' रैली के जरिए अपनी धूमिल छवि को सुधारने की शुरूआत की। गुरुवार को रैली का दूसरा था लेकिन रैली में लोगों की कम भीड़ ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया। इस पर उन्होंने पार्टी के नेताओं को खूब खरी-खरी सुनाई। 

पाक समाचार पत्र डॉन के मुताबिक रावलपिंडी में रुकने के बाद नवाज रैली के दूसरे दिन के आगाज से नाखुश थे। रैली में जुटी कम भीड़ को देखकर नवाज नाराज थे। रैली खत्म करने के बाद नवाज रावलपिंडी के पंजाब हाउस में पीएमएल-एन के पदाधिकारियों और प्रशासन पर जमकर बरसे।

उन्होंने रैली में लोगों से अपील की कि वे अपने जनादेश की रक्षा करें ताकि निर्वाचित प्रतिनिधियों को ‘‘अलोकतांत्रिक’’ तरीके से ना हटाया जाए। पनामा पेपर्स कांड को लेकर उच्चतम न्यायालय ने शरीफ को अयोग्य करार दे दिया था। 

शरीफ को रिकॉर्ड तीसरी बार पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘इस देश में हर प्रधानमंत्री को औसतन डेढ़ साल का कार्यकाल दिया गया। कुछ की हत्या कर दी गई, कुछ को जेल भेज दिया गया, कुछ को हथकड़ी लगा दी गई और कुछ को देश से निकाल दिया गया।’’

उन्होंने लोगों से जनादेश की रक्षा करने का संकल्प लेने का आह्वान किया ताकि निर्वाचित प्रतिनिधियों को अलोकतांत्रिक तरीके से ना हटाया जाये। बता दें कि पहले दिन की रैली में उन्हें 30 किलोमीटर की दूरी तय करने में 12 घंटे से ज्यादा का वक्त लगा। आमतौर पर यात्रा में आधे घंटे का समय लगता है।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!