नामीबिया ने नाजी जनसंहार के लिए मांगा 30 अरब डॉलर का मुआवजा

Saturday, March 18, 2017 6:46 PM
नामीबिया ने नाजी जनसंहार के लिए मांगा 30 अरब डॉलर का मुआवजा

लंदन/विंडहोक: नामीबिया औपनिवेशिक काल के दौरान नाजी जनसंहार के लिए जर्मनी के खिलाफ 30 अरब डॉलर का वाद दायर करेगा। इस जनसंहार में हजारों लोग मारे गए थे।  ए.एफ.पी. को उपलब्ध कराए गए कानूनी दस्तावेज और नामीबिया के समाचार पत्र के अनुसार सरकार ने मानवाधिकार के उल्लंघन का मामला चलाने के लिए और ‘‘माफी एवं मुआवजे की प्रक्रिया के लिए’’ लंदन से वकील किए हैं।

 माना जाता है कि वर्ष 1904 से 1908 के बीच नाजियों की नामीबिया के हेरेरो और नामा जनजातियों पर जनसंहार में 65 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। नामीबिया के उप राष्ट्रपति निक्की लाइंबो ने कल एक बयान जारी कर कहा था कि उन्होंने जनसंहार, आधिकारिक माफी और मुआवजे पर पिछले वर्ष एक रिपोर्ट जर्मनी को भेजी थी। उन्होंने कहा,‘‘ हम भरोसा करते हैं कि जर्मनी सरकार इस स्थिति पर गंभीरता से ध्यान दे रही है।’’ दस्तावेज दिखाते हैं कि नामीबिया अपने मामले को आगे बढ़ाने के लिए हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायधिकरण की शरण में भी जा सकता है।  उप राष्ट्रपति ने कहा कि नामीबिया ‘‘इस दुखद इतिहास का सौहार्दपूर्ण पटाक्षेप’’ चाहता है। 
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !