गृह कलह की काट है ये उपाय, पति-पत्नी में से किसी एक को आएगी बुद्धि

Thursday, June 8, 2017 3:02 PM
गृह कलह की काट है ये उपाय, पति-पत्नी में से किसी एक को आएगी बुद्धि

कुछ परिवारों में छोटी-छोटी बातों को लेकर गृह कलह होती है। साधन-सम्पन्न एवं सुविधाएं होते हुए भी अशांत वातावरण रहता है। निम्र मंत्र का पति-पत्नी में से कोई भी यदि जाप करे तो किसी एक को बुद्धि आ जाएगी और घर में शांति का वातावरण बनेगा। 

मंत्र 
धां धीं धूं धूर्जटे:। पत्नी वां वी वूं वागधीश्वरी।
क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि। शां शीं शूं मे शुभं कुरु।


(यदि लड़की प्रयोग कर रही है तो मंत्र में ‘पत्नी’ की जगह ‘पति’ शब्द का प्रयोग करे)


विधि : प्रात: स्नान करके काली या मां दुर्गा के चित्र पर लाल पुष्प चढ़ाएं, दीप या अगरबत्ती जला दें। किसी भी माला से 108 बार जाप करें। 21 दिनों में अशांति का प्रभाव कम हो जाएगा। एक प्याले में थोड़े से मूंग उठाकर अन्य पात्र में रखते जाएं। 108 मंत्र होने पर इन मूंगों को मुट्ठी में लेकर प्रार्थना करें कि मेरा वैवाहिक जीवन प्रसन्नता एवं खुशहाली से परिपूर्ण हो।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !