पंजीकृत खरीदार आयातित चाय का मिश्रण भारतीय किस्मों में नहीं करें : चाय बोर्ड

punjabkesari.in Tuesday, Nov 30, 2021 - 12:42 PM (IST)

कोलकाता, 30 नवंबर (भाषा) सस्ती आयातित चाय को प्रीमियम पारंपरिक किस्मों के साथ मिलाने की चिंताओं के बीच चाय बोर्ड ने निर्देश दिया है कि कोई की पंजीकृत खरीदार इस तरह के आयात का भारतीय चाय के साथ मिश्रण नहीं करेगा। बोर्ड ने कहा है कि ऐसा करने वाले पंजीकृत खरीदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
चाय बोर्ड के उपाध्यक्ष के एन राघवन ने एक आदेश में कहा कि निर्देश का पालन नहीं करने पर कार्रवाई की जाएगी और लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।
बोर्ड ने कहा कि दार्जिलिंग, कांगड़ा, असम (परंपरागत) और नीलगिरि (परंपरागत) की चाय प्रतिष्ठित भौगोलिक संकेतक (जीआई) हैं, जो 1999 के जीआई अधिनियम के तहत पंजीकृत हैं। अपनी गुणवत्ता के लिए इनकी दुनियाभर में अलग पहचान है।
आदेश में कहा गया है कि चाय बोर्ड के संज्ञान में आया है कि घटिया गुणवत्ता की आयातित चाय को भारतीय परंपरागत किस्मों के साथ मिलाया जा रहा है जिससे भारतीय उत्पाद की प्रतिष्ठा को नुकसान हो रहा है।
एक अलग आदेश में बोर्ड ने यह भी निर्देश दिया कि कोई भी वितरक आयातित चाय बेचने का कारोबार नहीं करेगा और कोई भी निर्यातक बोर्ड के लाइसेंस के अलावा चाय का निर्यात नहीं करेगा।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News