भारत 2004-2015 के दौरान नयी एफडीआई परियोजनाओं के लिए चौथा सबसे बड़ा देश

2020-11-25T22:59:15.247

नयी दिल्ली, 25 नवंबर (भाषा) भारत 2004 से 2015 के बीच नयी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) परियोजनाओं को आकर्षित करने वाला चौथा प्रमुख देश रहा। इस दौरान दूसरे देशों में विलय एवं अधिग्रहण करने में भी भारत आठवें स्थान पर रहा।

‘फ्यूचर ऑफ रीजनल को-ओपरेशन इन एशिया एंड पैसेफिक’ शीर्षक वाला एक शोध पत्र बुधवार को जारी किया गया। एशियाई विकास बैंक की वेबसाइट पर उपलब्ध इस रपट के मुताबिक 2004-2015 के बीच भारत को 8,004 एकदम नयी एफडीआई परियोजनाएं हासिल हुईं। वहीं विलय और अधिग्रहण की संख्या भी 4,918 रही।

रपट में कहा गया है कि इस अवधि में नयी एफडीआई परियोजनाएं हासिल करने में अमेरिका शीर्ष पर रहा। जबकि चीन दूसरे और ब्रिटेन तीसरे स्थान पर रहा।

इस दौरान अमेरिका को 13,308 नयी एफडीआई परियोजनाएं हासिल हुईं।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Edited By

PTI News Agency

Recommended News