भारत से 4000 किमी. दूर देश में 'कश्मीर मुद्दे' पर लड़ा जा रहा चुनाव, भारतीय वोटरों के पाले में गेंद

2019-12-09T17:34:25.167

इंटरनेशनल डेस्कः भारत में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद कश्मीर मुद्दा दुनिया भर में चर्चा का विषय बन गया। भारत से हजारों किलोमीटर दूर स्थित एक देश में तो कश्मीर मुद्दे पर चुनाव लड़ा जा रहा है । बड़ी बात यह है कि यहां भारतीय मतदाताओं की तादात अच्छी खासी है जो किसी भी प्रत्याशी के पक्ष में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। बात हो रही है भारत से 4000 किलोमीटर दूर देश ब्रिटेन की, जहां आम चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए कंजरवेटिव और लेबर पार्टी जोर-शोर से जुटी हुई है। दोनों पार्टियां भारतीय मतदाताओं को लुभाने के लिए भी तरह-तरह के हथकंडे अपना रही हैं।

PunjabKesari

यहां आम चुनाव में कश्मीर मामला खास बन गया है। एक तरफ जहां लेबर पार्टी भारत सरकार द्वारा कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध कर रही है वहीं, कंजरवेटिव पार्टी ने आधिकारिक रूप से इस विषय पर कुछ भी करने से इंकार किया है। ब्रिटेन की लेबर पार्टी के कश्मीर मुद्दे पर अपनाए गए रूख का विरोध पूरा भारतीय समुदाय कर रहा है। ब्रिटिश हिंदू मतदाताओं के एक बड़े वर्ग ने लेबर पार्टी को वोट देने से इंकार कर दिया है।


PunjabKesari

बता दें कि सितंबर महीने में लेबर पार्टी ने एक आपात प्रस्ताव पेश कर भारत के कदम की आलोचना की थी। लेबर पार्टी ने अपने प्रस्ताव में कहा था कि एक अंतरराष्ट्रीय दल को कश्मीर में जाकर वहां की जमीनी हालात का जायजा लेना चाहिए। लेबर पार्टी ने भारत सरकार पर जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार हनन का भी आरोप लगाया था। इसके अलावा उन्होंने घाटी के राजनेताओं को नजरबंद किए जाने और इंटरनेट बंद करने पर भी भारत की आलोचना की थी।

PunjabKesari
 

भारतीय समुदाय द्वारा विरोध किए जाने के बाद से लेबर पार्टी ने सफाई भी दी थी। उन्होंने कहा कि कश्मीर मसले को वह भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मामले के रूप मे देखता है।  भारतीय समुदाय से जुड़े कुछ संगठन वोटरों पर असर डालने के लिए सोशल मीडिया पर संदेश भेज रहे हैं। हालांकि कुछ लोग इसका विरोध भी कर रहे हैं। इन संदेशों में कहा जा रहा है कि विपक्षी लेबर पार्टी 370 को हटाने के भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के दुष्प्रचार का आंख मूंदकर समर्थन कर रही है।

PunjabKesari

लेबर पार्टी ने अपनी सफाई में कहा है कि कश्मीर पर पार्टी के प्रस्ताव की गलत व्याख्या की जा रही है। इसमें कहा गया था कि कश्मीर एक विवादित क्षेत्र है और कश्मीर के लोगों को संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के अनुरूप आत्मनिर्णय का अधिकार दिया जाना चाहिए। इसकी मंजूरी लेबर नेता जेरेमी कोर्बिन ने दी थी। लेबर पार्टी को लंदन में पाकिस्तान के समर्थन में हुए प्रदर्शनों की आलोचना न करने पर हिन्दू विरोधी भी कहा जा रहा है।
 


Tanuja

Related News