जेम्स बॉन्ड ऑफ इंडिया ''अजित डोभाल'' का आज B''day, लोग खास अंदाज में दे रहे बधाई...जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

punjabkesari.in Thursday, Jan 20, 2022 - 11:27 AM (IST)

नेशनल डेस्क: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल का आज जन्मदिन है। जेम्स बॉन्ड ऑफ इंडिया के नाम से मशहूर डोभाल को सोशल मीडिया पर लोग बधाइयां दे रहे हैं। यूजर्स अपने-अपने अंदाज में डोबाल को शुभकामनाएं दे रहे हैं। अजित डोभाल को प्रदानमंत्री नरेंद्र मोदी का बेहद खास और करीबी माना जाता है। सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर नगा शांति समझौता, ऑपरेशन ब्लैक थंडर से लेकर ISIS के चंगुल से भारतीय नर्सों को सुरक्षित निकालने तक अजित डोभाल के नाम पर कई उपलब्धियां हैं दर्ज हैं। 77 वर्षीय डोभाल भारतीय पुलिस सेवा के ऐसे रिटायर्ड अधिकारी हैं जिन्हें कीर्ति चक्र से सम्मानित किया जा चुका है।

 

1972 में रॉ से जुड़े डोभाल
20 जनवरी 1945 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में जन्म इजित डोभाल के पिता जीएन डोभाल भी भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। डोभाल की प्रारंभिक शिक्षा अजमेर, राजस्थान में किंग जॉर्ज्स रॉयल इंडियन मिलिट्री स्कूल (अब अजमेर मिलिट्री स्कूल) में हुई। 1967 में उन्होंने आगरा यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में मास्टर्स किया। 1968 बैच के केरल कैडर के आईपीएस अधिकारी रहे। डोभाल 1972 में खुफिया एजेंसी रॉ से जुड़े। डोभाल सात साल तक पाकिस्तान में रहे और अंडर कवर एजेंट के रूप में काम किया।

 

ऑपरेशन ब्लैक थंडर में अहम भूमिका
साल 1988 में जरनैल सिंह भिंडरावाले का अमृतसर में खासा प्रभाव था। उसी समय अमृतसर की गलियों में एक युवक रिक्शा चलाता दिखता था। खालिस्तानियों को उस पर शक हुआ लेकिन उस रिक्शेवाले ने आखिरकार खालिस्तानियों को यकीन दिला दिया कि ISI ने उसे उनकी मदद के लिए भेजा है। वो रिक्सेवाला कोई और नहीं अजित डोभाल थे। डोभाल ने ऑपरेशन ब्लैक थंडर में अलगाववादियों की पोजिशन और संख्या की जानकारी देकर काफी अहम भूमिका निभाई थी। 1999 में इंडियन एयरलाइंस के विमान का अपहरण हुआ था। इसे बाद में कंधार ले जाया गया था। उस समय अजित डोभाल ने तालिबान से बातचीत में काफी अहम भूमिका अदा की थी। रॉ के पूर्व चीफ एएस दुलत के अनुसार उस दौरान कंधार से डोभाल लगातार उनके संपर्क में थे। डोभाल ने ही हाइजैकर्स को यात्रियों को छोड़ने के लिए राजी किया था। 

 

पाकिस्तान को दिया मुंहतोड़ जवाब
सर्जिकल स्ट्राइक हो या एयर स्ट्राइक डोभाल ने दोनों मिशनों में अहम भूमिका निभाई और पाकिस्तान को करारा जवाब दिया। ऐसा पहली बार है जब भारतीय सेना ने दुश्मनों की जमीन पर जाकर ही दुश्मनों को ढेर किया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News