किसान आंदोलन का 50वां दिन, लोहड़ी पर जलाएंगे कृषि कानून की प्रतियां...SC की कमेटी पर रार

2021-01-13T10:45:58.627

नेशनल डेस्क: तीनों कृषि कानूनों के लागू होने पर सुप्रीम कोर्ट की रोक के बाद भी किसान अपनी जिद्द पर अड़े हुए हैं और आंदोलन खत्म करने के मूड में नहीं हैं। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने जो कमेटी बनाई है अब उस पर बहस छिड़ गई है। कमेटी के गठित होने पर भी किसानों ने कहा कि वे अपना आंदोलन जारी रखेंगे। वहीं बुधवार को लोहड़ी के दिन किसानों ने कृषि कानून की प्रतियां जलाई जलाने का ऐलान किया है। इतना ही नहीं किसानों ने कहा कि वे 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर शांति से ट्रैक्टर रैली निकालेंगे। ट्रैक्टर रैली निकालने पर सुप्रीम कोर्ट ने किसानों को नोटिस भी जारी किया है।

PunjabKesari

कमेटी के सामने पेस नहीं होंगे किसान
किसानों ने कहा कि वे अगले आदेश तक तीन कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगाए जाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत करते हैं। हालांकि, साथ ही किसानों ने कहा कि वे सुप्रीम कोर्ट की तरफ से गठित समिति के समक्ष पेश नहीं होंगे। किसानों ने आरोप लगाया कि यह ‘‘सरकार समर्थक'' समिति है। किसान संगठनों ने कहा कि उन्हें तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। उन्होंने समिति के सदस्यों की निष्पक्षता पर भी संदेह जताया है।

PunjabKesari

कमेटी के सदस्य बोले- SC के निर्देश पर काम करेंगे
कमेटी पर उठ रहे सवालों पर शतकरी संगठन के अध्यक्ष अनिल घनवट ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी का गठन किया है। उन्होंने कहा कि कोर्ट के निर्देश पर ही हम काम करेंगे और उपनी रिपोर्ट उनको सौंपेंगे। बता दें कि किसान आंदोलन को 50 दिन हो चले हैं, कड़कती ठंड, शीतलर और बारिश के बीच भी किसान सिंघू बॉर्डर पर डटे हुए हैं।

PunjabKesari


Seema Sharma

Recommended News