बिजली विभाग के निजीकरण के विरोध में कर्मचारियों की हड़ताल, फैसला रद्द करने की मांग

2021-04-20T20:59:02.993

केंद्र सरकार की ओर से सभी केंद्र शासित प्रदेशों में बिजली के प्राइवेटाइजेशन को लेकर नई पॉलिसी बनाई जा रही है। जिसको लेकर बिजली विभाग के कर्मचारी इसका विरोध कर रहे है.. वही इसके विरोध में चंडीगढ़ के बिजली कर्मचारियों ने बिजली विभाग का निजीकरण करने की कार्रवाई को रद्द करने के लिए एक दिन की संकेतिक हड़ताल की, इस दौरान बिजली विभाग के कर्मचारियों ने चंडीगढ़ प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और कहा की प्रशासन मुनाफे मे चल रहे बिजली विभाग का जानबूझकर निजीकरण करने जा रहा है जब कि बिजली महकमा 350 करोड़ के सालाना मुनाफे मे है, तो बावजूद इसके विभाग का निजीकरण क्यो किया जा रहा है,

 


News Editor

Dishant Kumar

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static