नाकाबिल लोगों के हाथ में होने से भारत की अर्थव्यवस्था भारी संकट में है: चिदंबरम

2019-12-06T15:56:56.207

रांची: पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने शुक्रवार को यहां केन्द्र की भाजपा सरकार को नाकाबिल बताते हुए कहा कि उसकी नीतियों के चलते देश की अर्थव्यवस्था भारी संकट में है और राष्ट्रीय विकास दर पांच प्रतिशत के भी नीचे जाने की आशंका है। आईएनएक्स मीडिया घोटाले से जुड़े मामले में सर्वोच्च न्यायालय से बुधवार को जमानत मिलने के बाद पहली बार चिदंबरम झारखंड विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और उसकेगठबंधन सहयोगियों के लिए चुनाव प्रचार करने यहां पहुंचे।

PunjabKesari

इस दौरान यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए चिदंबरम ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था भारी संकट में है। रिजर्व बैंक ने फरवरी में देश की विकास दर 7.4 प्रतिशत रहने का अनुमान किया और सिर्फ दस माह बाद दिसंबर में पांच प्रतिशत विकास दर होने की बात कही है। दस माह के भीतर इतनी गिरावट कभी नहीं देखी गयी। यह अभूतपूर्व है। उन्होंने कहा, देश की अर्थव्यवस्था नाकाबिल लोगों के हाथ में है। आशंका है कि सकल घरेलू उत्पाद का विकास दर पांच प्रतिशत के भी नीचे चला जायेगा। यह बहुत ही गंभीर स्थिति है। उन्होंने झारखंड के लोगों से अपील की कि वह भाजपा को सत्ता से बाहर करें। 

PunjabKesari


चिदंबरम ने कहा, हरियाणा में हमने भाजपा को नुकसान पहुंचाया (डेन्ट किया), महाराष्ट्र में डिनाइ (रास्ता रोका) किया और झारखंड में लोगों से अपील करते हैं कि यहां वह भाजपा को डिफीट (हराकर)दे सत्ता से बाहर करें। आईएनएक्स मीडिया घोटाले पर किसी सवाल का जवाब देने से बचने की कोशिश करते हुए चिदंबरम ने आज सिर्फ झारखंड के मुद्दों पर फोकस करने की बात कही। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था के गंभीर संकट में होने का अंदाजा इसी बात से लगाया जाता है कि इसे अंग्रेजी में च्डीप ट्रबल' में लिखते समय डीप की स्पेलिंग में डी ई ई पी के बजाय आज डी ई ई........पी लिखने की आवश्यकता होगी। इस शब्द में कम से कम बीस बार ई लिखना होगा। उन्होंने कहा कि जिस देश में अनाज की इतनी पैदावार होती हो वहां लोग भुखमरी के शिकार हो रहे हों यह शर्मनाक है। उन्होंने देश में बीस हजार लोगों के भुखमरी की चपेट में आने का दावा किया । 


Edited By

Anil dev

Related News