दिल्ली में AAP की प्रचंड जीत, विपक्ष बोला- ध्रुवीकरण और नफरत की राजनीति की हुई हार

2020-02-12T06:28:22.507

नई दिल्लीः विपक्षी नेताओं ने मंगलवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल नीत आम आदमी पार्टी (आप) की जबर्दस्त जीत को ध्रुवीकरण और नफरत की राजनीति की हार तथा समावेशी राजनीति की जीत बताते हुए इसका स्वागत किया। विपक्षी नेताओं ने साथ ही कहा कि देश में ‘‘बदलाव की बयार'' चल रही है।

ऐसे में जब केजरीवाल का लगातार तीसरी बार दिल्ली का मुख्यमंत्री बनना तय लग रहा है, गैर भाजपा दलों के नेताओं ने कहा कि चुनाव परिणाम से यह पता चलता है कि चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ा और जीता जा सकता है। उन्होंने साथ ही यह आह्वान भी किया कि भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए सभी क्षेत्रीय दल साथ आएं। भाजपा के प्रमुख सहयोगी एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी जदयू, भाजपा और लोजपा को मिली हार के संबंध में पूछे गए सवालों पर संक्षिप्त टिप्पणी करते हुए कहा, ‘‘जनता मालिक है।''
PunjabKesari
आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल को बधाई देने वाले पहले नेताओं में शामिल तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि दिल्ली के चुनाव ने साबित किया है कि केवल विकास चलेगा। उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के बीच कोलकाता में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैंने अरविंद केजरीवाल को बधाई दी है। लोगों ने भाजपा को खारिज किया है। केवल विकास चलेगा, सीएए, एनआरसी और एनपीआर खारिज होंगे।''

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने आप की जबर्दस्त जीत का जिक्र इस बात पर जोर देने के लिए किया कि क्षेत्रीय दलों को भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिए साथ आने की जरूरत है। पवार ने पुणे में संवाददाताओं से कहा, ‘‘दिल्ली के चुनाव परिणाम इसका संकेत हैं कि देश में ‘‘बदलाव की बयार'' चल रही है। परिणामों से मुझे हैरानी नहीं हुई है।'' उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा ने हमेशा की तरह वोटों के ध्रुवीकरण के लिए साम्प्रदायिकता का सहारा लिया लेकिन असफल रही।''

आप के वरिष्ठ नेता एवं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से नजदीकी मुकाबले में जीत हासिल करने के बाद भाजपा पर नफरत की राजनीति में लिप्त होने का आरोप लगाया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम विकास की राजनीति करते हैं, नफरत की राजनीति नहीं।'' कांग्रेस हालांकि इस चुनाव में अपना खाता भी नहीं खोल पाई, लेकिन इसके वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने आप को बधाई दी और कहा कि उसने भाजपा की विभाजनकारी राजनीति को परास्त किया है।
PunjabKesari
चिदंबरम ने कहा, ‘‘आप की जीत हुई, बेवकूफ बनाने तथा फेंकने वालों की हार हुई। दिल्ली के लोग, जो भारत के सभी हिस्सों से हैं, उन्होंने भाजपा के ध्रुवीकरण, विभाजनकारी और खतरनाक एजेंडे को हराया है। मैं दिल्ली के लोगों को सलाम करता हूं जिन्होंने 2021 और 2022 में अन्य राज्यों जहां चुनाव होंगे, उनके लिए मिसाल पेश की है।''

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आप और दिल्ली के लोगों को बधाई देते हुए कहा, ‘‘लोगों ने यह दिखाया है कि देश ‘मन की बात' की जगह ‘जन की बात' से चलेगा। भाजपा ने केजरीवाल को एक आतंकवादी कहा लेकिन उन्हें हरा नहीं पाई।''

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘‘दिल्ली में विकास के एजेंडे की जीत हुई है। मैं अरविंद केजरीवाल को बधाई देता हूं। दिल्ली का चुनाव द्विदलीय हो गया, शायद यही वजह रही कि कांग्रेस को उम्मीद के मुताबिक वोट नहीं मिले।'' सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि चुनाव परिणाम दिखाते हैं कि भारतीय लोग ‘‘सामाजिक और राजनीतिक रूप से समझदार हैं।''
PunjabKesari
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘अधिकतर भारतीय अभी भी सामाजिक रूप से उदार और राजनीतिक रूप से बुद्धिमान हैं तथा वे उन लोगों के खिलाफ हैं जो धर्म को राजनीतिक लाभ के लिए राजनीति में लाते हैं जो एक निजी मुद्दा है।'' उन्होंने कहा, ‘‘यह देश की शांति और विकास के लिए एक शुभ संकेत और स्वस्थ संदेश भी है।''

माकपा के वरिष्ठ नेता एवं केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने केजरीवाल की जीत का स्वागत समावेशी राजनीति की जीत के तौर पर किया। विजयन ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली चुनाव में शानदार जीत के लिए अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी को बधाई। कामना है कि यह विजय हमारे देश में जनोन्मुखी और समावेशी राजनीति की अग्रदूत हो।''

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने ट्वीट कर कहा कि दिल्लीवालों ने भाजपा की नफरत और हिंसा की राजनीति को माकूल जवाब दिया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आप, अरविंद केजरीवाल और दिल्ली की जनता को बधाई, जिसने भाजपा की नफरत और हिंसा की राजनीति को माकूल जवाब दिया है। गाली और गोली की भाषा बोल रहे केन्द्रीय मंत्रियों को जनता ने सही जवाब दिया है।''
PunjabKesari
भाकपा महासचिव डी राजा ने केजरीवाल को फोन कर बधाई दी। द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन ने कहा कि जीत इसका संकेत है कि ‘‘विकास सांप्रदायिक राजनीति पर हावी है।'' उन्होंने कहा, ‘‘संघीय अधिकारों और क्षेत्रीय आकांक्षाओं को हमारे देश के हित में मजबूत किया जाना चाहिए।''

राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि जीत ‘‘ध्रुवीकरण की राजनीति'' की हार का प्रतीक है। उन्होंने कहा, ‘‘अरविंद केजरीवाल जी और दिल्ली को बधाई। आपने नकारात्मक और नफरत की राजनीति को निर्णायक रूप से परास्त किया। आपका फैसला ध्रुवीकरण और विभाजनकारी राजनीति की हार का प्रतीक है। मैं ईमानकारी से उम्मीद करता हूं कि भाजपा इस परिणाम से सबक सीखेगी और सांप्रदायिकता एवं कट्टरता को हमेशा के लिए छोड़ देगी।''
PunjabKesari
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एवं जदएस नेता एच डी कुमारस्वामी ने कहा कि लोगों ने केजरीवाल को ‘‘आतंकवादी'' बताने का भाजपा को सबक सिखाया है। कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘केजरीवाल और आम आदमी पार्टी को दिल से बधाई। दिल्ली के लोगों ने दिखाया है कि ‘‘फासीवादी विचारधारा'' कभी भी उनके दिल नहीं जीतेगी।''

तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में आप समर्थकों के साथ मिलकर जीत का जश्न मनाया। आप समर्थक कोलकाता में विभिन्न स्थानों पर पार्टी का झंडा लिए हुए पार्टी की जीत का जश्न मनाने के लिए लोगों को मिठाई बांटते दिखे। तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ता राज्य के विभिन्न हिस्सों में आप समर्थकों के साथ पटाखे छोड़ते और मिठाई बांटते दिखे।

 


Yaspal

Related News