See More

प्रवासी श्रमिकों को कोई राहत नहीं जबकि सरकार निजी यात्रा के लिए विदेशी विमान लेने में समर्थ: माकपा

2020-06-09T21:28:06.867

नई दिल्लीः भारत में कोविड-19 संक्रमण की वृद्धिदर कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह प्रभावित देशों में सबसे अधिक होने की खबरों पर चिंता प्रकट करते हुए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने मंगलवार को कहा कि सरकार प्रवासी श्रमिकों को कोई राहत नहीं देती है लेकिन वह निजी यात्रा के लिए विदेशी विमान लेने में समर्थ है। 

अपने ट्वीटों में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने इन खबरों को लेकर सरकार पर प्रहार किया कि विशेष रूप से निर्मित दो बी 777 विमान सितंबर तक अमेरिकी कंपनी बोइंग द्वारा एयर इंडिया को आपूर्ति किये जाने की संभावना है जिनका उपयोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य शीर्ष भारतीय गणमान्य व्यक्ति की आवाजाही के लिए किया जाएगा। 

वामपंथी नेता ने इस खबर को टैग करते हुए ट्विटर पर लिखा,‘‘यह बड़ा डरावना है। भारत की कोविड वृद्धि दर सबसे अधिक प्रभावित पांच देशों में सबसे तेज है। पृथक्करण, संक्रमित के संपर्क में आने वाले व्यक्तियों की पहचान और पृथक-वास के बाद परीक्षण, परीक्षण तथा और परीक्षण करना ही इस महामारी से लड़ने का एकमात्र तरीका है। हम सबसे कम परीक्षण करने वलो देशों में है तथा प्रति हजार पर 3.4 व्यक्ति का परीक्षण होता है।'' 
PunjabKesari
उन्होंने लिखा, ‘‘ लौटकर आये और अब भी हैरान-परेशान प्रवासियों, मजदूरों या किसानों के लिए तो कोई राहत नहीं है,लेकिन मोदी सरकार को करदाताओं के पैसे का जो सबसे अच्छा उपयोग दिखता है , वह इस समय पर 8485 करोड़ रूपए निजी यात्रा के लिए विदेशी विमानों की खरीद है। आत्मनिर्भर भारत का नारा बाकी भारत के लिए है।'' 

उन्होंने आरोप लगाया , ‘‘ जब कच्चे तेल के दाम घट गये तब मोदी ने इस महामारी से प्रभावित भारतीयों को दाम में कटौती का फायदा पहुंचाने के बजाय करों को कई गुणा बढ़ा दिया। अब उन्होंने भारतीयों पर और बोझ बढ़ा दिया जबकि वे (लोग) अपनी जिंदगी के लिए संघर्ष कर रहे हैं। सरकार उनके दुख से फायदा कमा रही है। कैसी शर्म की बात है।''


Pardeep

Related News