कुछ हफ्तों में दिल्ली की समूची आबादी को टीका लगाने के लिये पर्याप्त ढांचा: सत्येंद्र जैन

2020-11-27T18:18:58.09

नेशनल डेस्क: स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 का टीका उपलब्ध होने के बाद दिल्ली में समूची आबादी को कुछ हफ्तों में टीका लगाने के लिये पर्याप्त आधारभूत संरचना और उपकरण मौजूद हैं। जैन ने संवाददाताओं को बताया, टीकों की कमी को लेकर चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। हमारे पास बड़ी संख्या में स्वास्थ्य देखभाल केंद्र, जैसे- मोहल्ला क्लीनिक, पॉली क्लीनिक और अस्पताल आदि- हैं जहां लोगों को कोविड-19 का टीका दिया जा सकता है। मंत्री ने कहा, जब टीका उपलब्ध हो जाएगा, हम कुछ हफ्तों में दिल्ली की समूची आबादी को टीके लगा सकते हैं।ज्ज् जैन ने यह भी कहा कि टीकों के वितरण में दिल्ली को प्राथमिकता दी जानी चाहिए क्योंकि यह राष्ट्रीय राजधानी है। राजीव गांधी सुपर स्पेशियेलिटी अस्पताल परिसर में एक तीन मंजिला इमारत की पहचान कोविड-19 टीकों के भंडारण के लिये की गई है। दिल्ली के टीकाकरण अधिकारी सुरेश सेठ ने बृहस्पतिवार को कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के लिये तैयार है और दिल्ली की समूची आबादी को एक महीने में टीके लगाए जा सकते हैं।

सेठ ने बताया था, हमारे पास कोल्ड स्टोरेज के लिए 600 स्थान हैं और बच्चों के वैश्विक टीकाकरण कार्यक्रम के लिए करीब 1800 संपर्क स्थल हैं। टीके के लिए हमारे पास समुचित उपकरण हैं और दो से आठ डिग्री तथा जरूरत पडऩे पर शून्य से 15 डिग्री या 25 डिग्री नीचे के तापमान पर इसे रख सकते हैं। केंद्र सरकार ने आधाभूत ढांचे को मजबूत किया है तथा और उपकरण मुहैया करा रही है। उन्होंने कहा था कि शून्य से 70 डिग्री सेल्सियस नीचे के तापमान में टीका को रखने के लिए उपकरण और आधारभूत ढांचा नहीं हैं लेकिन हमें नहीं लगता है कि इस संबंध में कोई दिक्कत होगी क्योंकि चरणबद्ध तरीके से टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जाएगा। उन्होंने कहा था, अगर हम अस्पताल के कर्मचारियों और नर्सों आदि को शामिल कर लें तो हम एक महीने में समूची आबादी का आसानी से टीकाकरण कर सकते हैं।

 सेठ ने कहा कि वर्तमान में दिल्ली सरकार स्वास्थ्यकर्मियों के आंकड़े इक_ा कर रही है, जो कि सरकार की प्राथमिकता सूची में शीर्ष पर है। सेठ ने कहा, अगर टीका उपलब्ध हो जाए तो हम महज तीन दिनों में सभी स्वास्थ्यकर्मियों को यह दे सकते हैं। हमारे पास समुचित उपकरण हैं, कोल्ड स्टोरेज भी हैं और हम तैयार हो रहे हैं । इस बीच,जैन ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में सात नवंबर के बाद से कोविड-19 संक्रमण दर में 45 प्रतिशत की गिरावट आई है। जैन ने कहा, आरटी-पीसीआर जांच के लिये सात नवंबर को संक्रमण दर 30 प्रतिशत थी। यह अब घटकर 15.84 प्रतिशत पर आ गई है। रैपिड एंटीजन जांच के लिये संक्रमण दर कुछ दिन पहले जहां 8.39 प्रतिशत थी वह अब घटकर 2.61 प्रतिशत पर पहुंच गई है। मंत्री ने कहा, कुल मिलाकर संक्रमण दर में 45 प्रतिशत की गिरावट आई है। आरटी-पीसीआई जांच की संख्या जहां तेजी से बढ़ रही है वहीं संक्रमण दर तेजी से घट रही है।ज्ज् जैन ने कहा कि दिल्ली में राष्ट्रीय औसत के मुकाबले तीन गुना अधिक जांच की जा रही हैं। मंत्री ने यह भी कहा कि दिल्ली में लगातार सात दिनों से कोविड-19 के मामलों की संख्या रोजाना 7000 से कम आ रही है।


Edited By

Anil dev

Recommended News