उदयपुर के कन्हैयालाल की तरह अब इस युवक को मिली गला काटने की धमकी, पुलिस ने दी सुरक्षा

punjabkesari.in Friday, Jul 01, 2022 - 03:53 PM (IST)

नेशनल डेस्क: राजस्थान के उदयपुर में एक दर्जी की नृशंस हत्या के खिलाफ हर किसी को झकझोर कर रख दिया है। सोशल मीडिया पर लोगों ने मृतक कन्हैयालाल के समर्थन में पोस्ट लिखना शुरू कर दिया है। वहीं गुजरात के सूरत शहर में एक युवक को कन्हैयालाल के समर्थन में पोस्ट लिखने पर जान से मारने की धमकी मिली है।

 सूरत के रहने वाले युवराज पोखराना नाम के युवक को गला काटने की धमकी दी गई है। इसके बाद से युवक ने सावधानी बरतते हुए थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है। शिकायत पर पुलिस ने उसकी सुरक्षा में गनमैन तैनात कर दिया है। पोखराज ने दावा करते हुए कहा कि मैंने कोई उकसाने वाली प्रतिक्रिया नहीं दी। बस मैंने लिखा था कि एक समुदाय विशेष के लोगों ने कन्हैयालाल की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। इससे उस समुदाय के कुछ लोग नाराज हो गए और उन्होंने मुझे जान से मारने की धमकी देनी शुरू कर दी। इतना ही नहीं उन लोगों ने कन्हैलाल की तरह गला काटने तक की भी धमकी दी।

दर्जी हत्याकांड: कन्हैयालाल के शरीर पर 26 घाव मिले 
उदयपुर के धानमंड़ी थाना क्षेत्र में मंगलवार को दो लोगों के हमले में मारे गए दर्जी कन्हैयालाल के शरीर पर घाव के 26 निशान मिले हैं। पुलिस सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम में शरीर पर 26 घाव पाए गए हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि सभी घाव चाकू से हमले के हैं अथवा नहीं। सूत्रों ने बताया कि दर्जी के ‘‘शरीर पर कई घाव थे। गर्दन, सिर, हाथ, सीना और हाथ पर घाव थे।'' दर्जी कन्हैयालाल दुकान पर काम कर रहा था तभी दो लोग उसकी दुकान पर ग्राहक बन कर पहुंचे। जब कन्हैयालाल उनकी नाप लिख रहा था,तब एक आरोपी ने उस पर हमला कर दिया। कुछ ही क्षणों में दर्जी की मौत हो गई। 

वेल्डर के रूप में काम करता था दर्जी हत्याकांड का आरोपी मोहम्मद रियाज 
उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की हत्या के मुख्य आरोपियों में से एक मोहम्मद रियाज उदयपुर के परकोटे में एक दुकान पर वेल्डर के रूप में काम करता था। पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वह एक स्थानीय मस्जिद में भी काम करता था और धार्मिक प्रचार में शामिल रहता था। उन्होंने कहा कि रियाज 12 जून को अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ किराए के मकान में रहने गया था। मकान मालिक मोहम्मद उमर ने कहा, ‘‘मैं उससे कभी नहीं मिला। रियाज की पत्नी ने किराये के आवास के लिए मेरी पत्नी से संपर्क किया था। मैंने पहचान पत्र मांगा था लेकिन उन्होंने मुझे नहीं दिया। परिवार ने घटना से पहले 28 जून को मकान खाली कर दिया था।'' उन्होंने बताया कि रियाज मूल रूप से भीलवाड़ा के आसींद कस्बे का रहने वाला है और वह उदयपुर में एक दुकान में वेल्डर के रूप में काम करता था। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News