कोरोना से कांप रहे श्मशान: गुजरात में एडवांस में की जा रही कब्रों की खुदाई, तस्वीरें देख उड़ जाएंगे होश

punjabkesari.in Wednesday, Apr 14, 2021 - 06:49 PM (IST)

नेशनल डेस्क: गुजरात में बीते एक सप्ताह से शमशानों में भारी भीड़ देखने को मिल रही है, जिसके चलते कोविड-19 या अन्य रोगों के कारण जान गंवाने वाले लोगों के संबंधियों को उनके अंतिम संस्कार के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं, कब्रिस्तानों की भी ऐसी तस्वीर सामने आई है जिसे देख लोग सकते में आ गए। दरअसल, कोरोना के कहर को देखते हुए कब्रिस्तानों में एडवांस में कब्रों की खुदाई की जा रही है।

PunjabKesari

अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि हिंदू धर्म में आमतौर पर सूरज ढलने के बाद अंतिम संस्कार नहीं किया जाता। लेकिन इन दिनों शमशानों में शवों की भारी संख्या के चलते लोगों को रात में भी अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है। सूरत शहर के उमरा इलाके के एक शमशान में दो दिन पहले रात के समय एक साथ 25 शवों का लकडिय़ों से बनी चिताओं पर अंतिम संस्कार किया गया। वडोदरा में भी शमशानों में भीड़ बढऩे के कारण लोगों को रात में ही अंतिम संस्कार करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। वडोदरा नगर निगम की स्थायी समिति के अध्यक्ष हितेन्द्र पटेल ने यह जानकारी दी। हालात से निपटने और इंतजार के घंटे कम करने के लिए अधिकारियों ने कुछ शमशानों में लोहे की चिताओं का भी इंतजाम किया है। 

PunjabKesari

साथ ही जिन शमशानों में अंतिम संस्कार नहीं किया जा रहा था, उन्हें भी खोल दिया गया है। अहमदाबाद शहर में कुछ मृतकों के परिजनों ने दावा किया कि उन्हें शमशान में आठ घंटे से अधिक समय तक इंतजार करना पड़ा। यहां दो मुख्य शमशानों वाडाज और दुधेश्वर में बीते कुछ दिन में भारी भीड़ देखने को मिली है। वाडाज शमशान में मंगलवार को अपने संबंधी के अंतिम संस्कार के लिए कतार में खड़े एक व्यक्ति ने पत्रकारों से कहा कि सुबह आठ बजे से दोपहर तक सात शव लाए जा चुके हैं। उसने कहा कि हमें अपनी बारी की प्रतीक्षा करनी पड़ी। हम अपने संबंधी के अंतिम संस्कार के लिये सुबह जल्दी आ गए थे, जिसके चलते शाम हमारी बारी आ सकी। 


PunjabKesari

अहमदाबाद के दुधेश्वर इलाके के शमशान में भी लोग ऐसी ही समस्याओं का सामना कर रहे हैं। कोविड-19 से जान गंवाने वाले एक व्यक्ति के संबंधी जयदीपसिंह परमार ने कहा कि पहले तो उन्हें शव को शमशान लाने के लिए एंबुलेंस का इंतजार करना पड़ा और उसके बाद अंतिम संस्कार के लिये आठ घंटे तक प्रतीक्षा करनी पड़ी। उन्होंने कहा, एक व्यक्ति को औसतन आठ से नौ घंटे प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। इस समस्या के समाधान के लिये वडोदरा नगर निगम ने हाल ही में और अधिक शवों के अंतिम संस्कार के लिये धातु की बनी 35 नयी चिताएं लगाई हैं। नगर निकाय की स्थायी समिति के प्रमुख हितेन्द्र पटेल ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, पहले हमने कोविड-19 से जान गंवाने वालों के अंतिम संस्कार के लिए वडोदरा शहर में चार शमशानों को अनुमति दी थी। भीड़ को देखते हुए हमने दो दिन पहले आठ अन्य शमशानों को भी अनुमति दे दी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News