दिल्ली में डराने लगी कोरोना की सुपरस्पीड... ढाई हफ्ते में 9 गुना बढ़े एक्टिव मरीज, क्या फिर लोग होंगे घरो में कैद ?

punjabkesari.in Friday, Apr 29, 2022 - 11:48 AM (IST)

नेशनल डेस्क: दिल्ली में कोरोना का खतरा एक बार फिर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस (कोविड-19) के 1,490 नये मामले सामने आये और इस दौरान इस बीमारी से संबंधित दो लोगों की मौत हुई हैं। गुरूवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में 32 हजार 248 लोगों की कोविड जांच की गई। जिसके बाद 1490 नये मामले सामने आये हैं। इस दौरान राज्य में संक्रमण दर 4.62 प्रतिशत रही। इस बीच 1070 मरीज स्वस्थ हुए हैं। दिल्ली में ढाई हफ्ते में एक्टिव केस का आंकड़ा 9 गुना बढ़ा है।  11 अप्रैल को राजधानी में एक्टिव मरीजों की संख्या 601 थी। इनकी संख्या 28 अप्रैल को बढ़कर 5 हजार के पार पहुंच गई। अभी राजधानी में कोरोना का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 5,250 है। बड़ा सवाल यह है कि क्या दिल्ली एक बार फिर लॉकडाउन लगेगा?

दिल्ली में कोविड के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन स्थिति गंभीर नहीं
वहीं दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि राजधानी में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि हुई है, लेकिन हालात गंभीर नहीं हैं क्योंकि लोग गंभीर रूप से बीमार नहीं हो रहे हैं और अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की दर कम है। उन्होंने अस्पताल में मरीजों के भर्ती होने की दर के पीछे टीकाकरण और स्वाभाविक रूप से हासिल रोग प्रतिरोधक क्षमता को जिम्मेदार बताया। मंत्री ने यह भी कहा कि बच्चों में कोविड संक्रमण के मामलों को लेकर घबराने की आवश्यकता नहीं है।

उन्होंने कहा कि कई सीरो सर्वे से यह पता चलता है कि बच्चों और वयस्कों में संक्रमण दर लगभग समान है लेकिन उनमें गंभीर रूप से बीमार पड़ने का खतरा नहीं है। जैन ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘दिल्ली में कोविड के मामले बढ़ गए हैं लेकिन लोग गंभीर रूप से बीमार नहीं हो रहे हैं और अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की दर कम है। ऐसा इसलिए क्योंकि हमारी आबादी ने पूरी तरह से टीके की खुराक ले ली है और बड़ी संख्या में लोग पहले संक्रमित हो चुके हैं इसलिए हालात गंभीर नहीं हैं।'' 

जैन ने कहा कि इससे पहले जब दिल्ली में 5,000 उपचाराधीन मरीज होते थे तो 1,000 लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होती थी। विभिन्न अस्पतालों में कोरोना वायरस के मरीजों के लिए 9,390 बिस्तर उपलब्ध हैं और केवल 148 बिस्तरों पर ही मरीज भर्ती हैं। मंत्री ने कहा, ‘‘हमारे पास अभी करीब 1,000 बिस्तर हैं। जरूरत पड़ने पर हम उनकी संख्या बढ़ाते हैं।'' स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ने के साथ ही बुधवार को उपचाराधीन मरीजों की संख्या 4,832 पर पहुंच गयी, जबकि 11 अप्रैल को यह 601 थी।

स्वास्थ्य विभाग के बुधवार को जारी बुलेटिन में कहा गया है कि अस्पताल में भर्ती होने की दर अभी तक कम रही है और यह संक्रमण के कुल मामलों के तीन प्रतिशत से भी कम है। इसमें कहा गया कि दिल्ली के अस्पतालों में कोविड-19 के 129 मरीज भर्ती हैं जबकि 3,336 घर पर पृथक वास कर रहे हैं। कोविन पोर्टल के अनुसार, दिल्ली में 1,47,01,155 लोगों ने टीके की पूरी खुराक ले ली है जबकि 7,18,788 ने तीसरी या एहतियाती खुराक भी ले ली है। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News