दिल्ली में कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार, 14 दिनों में 60 फीसदी मरीज अस्पतालों में हुए भर्ती

punjabkesari.in Wednesday, Aug 17, 2022 - 06:32 PM (IST)

नेशनल डेस्क: दिल्ली में कोरोना का खतरा फिर बढ़ने लगा है। इस महीने 81 मौतें दर्ज हो चुकी हैं। हर दिन औसतन पांच या उससे ज्‍यादा लोगों की जान गई। राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 917 मामले सामने आए और तीन लोगों ने दम तोड़ दिया। इस दौरान दैनिक संक्रमण दर 19.20 प्रतिशत दर्ज की गई 1 अगस्‍त के बाद यह पहला मौका है जब 1,000 से कम नए केस दर्ज हुए। दिल्ली में 14 दिनों में कोरोना के 60% मरीज भर्ती हुए हैं।  हालांकि, पॉजिटिविटी रेट 19% के पार चला गया है। अगस्‍त में अबतक 30,968 कोविड मामले सामने आ चुके हैं जो जनवरी 2022 के बाद से सबसे ज्‍यादा हैं। करीब छह महीने बाद दिल्‍ली में पॉजिटिविटी रेट और मौतों में चिंताजनक उछाल दिख रहा है।

PunjabKesari

आपको बतां दे कि राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 917 मामले सामने आए और तीन लोगों ने दम तोड़ दिया। इस दौरान दैनिक संक्रमण दर 19.20 प्रतिशत दर्ज की गयी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों में यह जानकारी दी गयी। स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में मंगलवार को आए इन नए मामलों के साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 19,86,739 हो गई और अब तक 26,392 मरीज संक्रमण के कारण जान गंवा चुके हैं। बुलेटिन में कहा गया है कि 917 नए मामले सोमवार को किए गए 4,775 नमूनों के परीक्षण में सामने आए। सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी में 14.57 फीसदी दैनिक संक्रमण दर के साथ 1,227 मामले दर्ज किए थे, जबकि आठ मरीजों की संक्रमण के मौत हो गई थी। 

PunjabKesari


वहीं दिल्ली में कोविड-19 के मामले बढ़ने के बीच उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को कहा कि कोविड रोधी टीकों की एहतियाती खुराक लेने वाले लोग अन्य लोगों से अधिक सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि दिल्लीवासियों को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने के लिए सरकार ने एहतियाती खुराक के टीकाकरण की गति बढ़ा दी है। सिसोदिया ने टीकाकरण को गति प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों तथा जिला मजिस्ट्रेट के साथ बैठक की। 

आंकड़े साझा करते हुए उन्होंने कहा कि अस्पतालों में भर्ती कोरोना वायरस रोगियों की संख्या बताती है कि टीके की एहतियाती खुराक लेने वाले लोग अन्य लोगों से अधिक सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित रोगियों में 90 प्रतिशत वो हैं जिन्होंने टीके की केवल दो खुराक ली हैं। उसी समय केवल 10 प्रतिशत लोग टीके की तीसरी खुराक लेने के बाद कोरोना संक्रमित हो गये। इससे स्पष्ट है कि टीके की एहतियाती खुराक लगवाने वाले लोग कोरोना संक्रमण से सुरक्षित हैं।'' 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News