See More

वायु सेना की ताकत बढ़ाने के लिए भारत खरीदेगा 12 नए सुखोई और 21 मिग-29 लड़ाकू विमान

2020-06-18T17:36:01.917

नई दिल्लीः गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद भारतीय सेना (थल, जल और वायु) तीनों ने कमर कस ली है। भारतीय वायुसेना रुस से 12 नए सुखोई-30 मल्टी रोल फाइटर जेट खरीदने में जुटा है। फाइटर जेट्स का फैसला होने के तुरंत बाद ये लड़ाकू विमान वायुसेना को सौंप दिए जाएंगे, जिससे उसकी ताकत पहले से और ज्यादा मजबूत हो जाएगी। रूस से सुखोई 30 के  अलावा मिग 29 लड़ाकू विमानों के अतिरिक्त स्क्वाड्रन हासिल करने पर चर्चा कर चुके हैं। इस सौदे के लिए भारत के आग्रह पर रूस ने काम करना भी शुरू कर दिया है।
PunjabKesari
सुखोई की खासियत

  • सुखोई मल्टी रोल फाइटर जेट है। यह हवा से हवा में और हवा से जमीन पर मार कर सकता है।
  • यह तीन हजार किलोमीटर तक की दूरी तक जाकर मार कर सकता है।
  • इसमें लगा AL-31 टर्बोफैन इंजन 2600 किलोमीट प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ने की शक्ति देता है।
  • ये विमान कई तरह के बम और प्रक्षपास्त्र ले जा सकने में सक्षम है।
  • इसमें एक 30 mm की अडिशनल तोप भी लगी हुई है। 

रक्षा सूत्रों के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय ने भारतीय वायुसेना के घटते स्क्वाड्रन के मद्देनजर सुखोई-30 और मिग-29 के अतिरिक्त विमानों को बेड़े में जोड़ने का फैसला किया है। हालांकि इससे पहले यह माना जा रहा था कि वायुसेना रूस से 18 सुखोई यानि एक स्क्वाड्रन लड़ाकू विमान हासिल करेगी। लेकिन सीमित रक्षा बजट और मौजूदा रक्षा जरूरतों को तुरंत प्रभाव से पूरा करने के लिए यह फैसला लिया गया है। यह किसी से नहीं छुपा है कि भारत इस समय टू फ्रंट वॉर का खतरा झेल रहा है। ऐसे में खुद की तैयारी को पुख्ता करना बहुत जरूरी हो जाता है।
PunjabKesari
उल्लेखनीय है कि भारतीय वायुसेना में स्वीकृत 42 स्क्वाड्रन की तादाद घटकर अब 31 की रह गई है। इनमें मिग-21 60 के दशक के हैं और जगुआर 70 के दशक में वायुसेना में शामिल हुआ था। रूस की मदद से भारतीय वायुसेना में अभी तक 272 सुखोई-30 विमानों के 13 स्क्वाड्रन शामिल हो चुके हैं। भारत के नए आर्डर को पूरा होने के बाद वायुसेना में सुखोई-30 के कुल 14 स्क्वाड्रन हो जाएंगे।
PunjabKesari
बता दें कि रूस सुखोई-30 के अलावा अन्य सैन्य प्रणालियों की सप्लाई पर भी काम कर रहा है। भारत ने रूस से आग्रह किया है कि रूस भारतीय वायुसेना के लिए 20 मिग-29 लड़ाकू विमानों की आपूर्ति भी करे। ये मिग-29 विमान पहले के मुकाबले ज्यादा आधुनिक बनाए जाएंगे। इसके अलावा भारतीय थलसेना के 450 से भी अधिक टी- 90 टैंकों को आधुनिक बनाने का आग्रह किया गया है। फिलहाल भारतीय वायुसेना में 250 सुखोई -30 विमान हैं जिनमें से 200 भारत में लाइसेंस पर बनाए गए हैं।
PunjabKesari

 


Yaspal

Related News