किसान आंदोलन: किसान नेता हन्नान ने कहा- हम यहां ठंड से मर रहे और सरकार हमें दे रही 'तारीख पे तारीख'

2021-01-17T13:14:11.21

नेशनल डेस्क: कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से लगने वाली विभिन्न राज्यों की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन 53वें दिन भी जारी है। किसानों और केंद्र सरकार के बीच इस दौरान कई वार्ता भी हुई लेकिन वह सभी बेनतीजा रही। एक तरफ किसान संगठन के नेता तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े रहे, वहीं दूसरी ओर मोदी सरकार भी पीछे हटने का तैयार नहीं है। अब अगली बैठक 19 जनवरी को तय की गई है। 

सरकार हमें तारीख पे तारीख दे रही: हन्नान
अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मोल्लाह ने कहा कि, 'हम बीते दो महीने से इस ठंड के मौसम में यहां मर रहे हैं और परेशान हो रहे हैं। सरकार हमें तारीख पे तारीख दे रही है।इस मामले को टालने की कोशिश कर रही है ताकि हम थक जाएं और जगह छोड़ दें। यह उनकी साजिश है।'

कोर्ट जाने का सवाल नहीं: हन्नान
किसान यूनियन के सुप्रीम कोर्ट में निष्पक्ष लोगों की कमेटी गठित करने की याचिका पर अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मोल्लाह ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा ने अभी इस बात पर चर्चा की है और न ही आगे कभी सोचेंगे। हम कोर्ट में नहीं गए और अभी भी जाने का सवाल नहीं है।  

लुधियाना में ट्रैक्टर मार्च को लेकर चल रही तैयारियां
गणतंत्र दिवस के दिन राजधानी दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर मार्च के लिए लुधियाना में तैयारियां चल रही हैं। ट्रैक्टर मार्च में हिस्सा ले रहे एक प्रदर्शनकारी ने बताया कि 24 जनवरी से पहले हमने एक लाख ट्रैक्टर पहुंचाने की ज़िम्मेदारी ली है, सब एकजुट होकर काम कर रहे हैं।

बता दें कि, कृषि कानूनों को लेकर किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच शुक्रवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में हुई नौवें दौर की वार्ता भी बेनतीजा रही। इस समस्या का समाधान तलाशने के लिए 19 जनवरी को 10वें दौर की बैठक होगी। बैठक के दौरान किसान नेता इन तीनों कानूनों को रद्द करने और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर अड़े रहे।
 


Content Editor

rajesh kumar

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News