LIVE: किसानों को मिली दिल्ली आने की इजाजत, सरकार ने बुराड़ी मैदान में दी प्रदर्शन की मंजूरी

2020-11-27T15:13:57.23

नेशनल डेस्क: केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पंजाब के किसानों के संगठनों ने शुक्रवार को दावा कि केन्द्र सरकार ने उन्हें दिल्ली में दाखिल होने और बुराड़ी मैदान में प्रदर्शन करने की इजाजत दे दी है। क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि हमें दिल्ली में दाखिल होने की अनुमति मिल गई है। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने उन्हें दिल्ली के बुराड़ी में एक स्थान पर प्रदर्शन करने की अनुमति दी। किसान आंदोलन से जुड़ी ताजा जानकारी के लिए जुड़े रहें punjabkesari.in के साथ...

LIVE अपडेट्स

  • 9 स्टेडियम में किसानों के लिए अस्थाई जेल बनाने के प्रस्ताव को केजरीवाल सरकार ने ठुकराया।

  • किसानों के प्रदर्शन के कारण गाजियाबाद में दोपहर 2 बजे तक मेट्रो सेवा बंद।

  • ‘दिल्ली चलो' मार्च के तहत सिंघु बॉर्डर पर पहुंचे किसानों के एक समूह को तितर-बितर करने के लिए दिल्ली पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे।
  • पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि हम किसानों को प्रदर्शन करने से रोकने के लिए आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल कर रहे हैं। हम उन्हें यह भी बता रहे हैं कि कोरोना महामारी के मद्देनजर किसी प्रकार की रैली करने या धरना देने की अनुमति नहीं है।
  • अधिकारी ने कहा कि उन्हें अनुमति नहीं दी गई और अगर उन्होंने दिल्ली में दाखिल होने की कोशिश की तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

 

पंजाब-हरियाणा के बाद अब UP के किसान उतरें सड़कों पर, मेरठ-मुजफ्फरनगर हाइवे जाम

 

PunjabKesari

Farmers Protest: दिल्ली में लंबी लड़ाई के मूड में किसान, महीनेभर का राशन-गैस स्टोव का भारी स्टॉक

सीमा पर सुरक्षा कड़ी
किसानों के दिल्ली घुसने को लेकर सीमा पर सुरक्षा की गई है। बता दें कि किसानों को रोकने के लिए रेत से भरे ट्रक तथा पानी के टैंक भी वहां तैनात किए गए थे ताकि किसान जबरदस्ती राजधानी में न घुल सकें लेकिन अब उनको दिल्ली आने की इजाजत मिल चुकी है। 30 से अधिक किसान संगठनों का प्रतिनिधित्व करने वाले पंजाब के किसानों ने घोषणा की थी कि वे लालडू, शंभू, पटियाला-पिहोवा, पातरां-खनौरी, मूनक-टोहाना, रतिया-फतेहाबाद और तलवंडी-सिरसा मार्गों से दिल्ली की ओर रवाना होंगे। सभी सीमाओं पर तनाव कायम है। ‘दिल्ली चलो' मार्च के लिए किसान अपनी ट्रैक्टर-ट्रॉलियों पर राशन और अन्य आवश्यक सामान के साथ एकत्रित हो गए हैं। हरियाणा सरकार ने किसानों को प्रदर्शन के लिए एकत्रित होने से रोकने के लिए कई इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 भी लागू कर दी है। किसान नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि नए कानून से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी।

PunjabKesari

UP के किसानों का हल्लाबोल
जहां एक तरफ दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं वहीं उत्तर प्रदेश के किसानों ने भी पंजाब के किसानों को समर्थन देने का ऐलान किया है। यूपी के किसान भी आज सड़कों पर उतरेंगे। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि पंजाब के किसानों को हमारा समर्थन है और शुक्रवार सुबह 11 बजे से बहुत बड़ा प्रदर्शन होगा। बता दें कि प्रदर्शन के कारण NCR में पहले से ही मेट्रो सेवा बाधित है और नोएडा से दिल्ली मेट्रो नहीं जा पा रही है।

PunjabKesari

शंभू सीमा पर किसानों पर पुलिस ने की पानी की बौछार
हरियाणा पुलिस ने गुरुवार को पंजाब के किसानों के एक समूह को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारें की और आंसू गैस का इस्तेमाल किया। ये किसान केन्द्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्तावित ‘दिल्ली चलो' मार्च के तहत कथित तौर पर पुलिस अवरोधक लांघकर हरियाणा में दाखिल होने की कोशिश कर रहे थे। देर शाम तक उनमें से एक बड़ा समूह दिल्ली से करीब 100 किलोमीटर दूर पानीपत में टोल प्लाजा तक पहुंच चुका था।

PunjabKesari


Seema Sharma

Recommended News