Ahmedabad Bomb Blast: पुलिस के मना करने के बावजूद पीएम मोदी गए थे स्पॉट वाली जगह, जानें साल 2008 का वो किस्सा

punjabkesari.in Friday, Feb 18, 2022 - 02:03 PM (IST)

नेशनल डेस्क- गुजरात के अहमदाबाद की एक विशेष अदालत ने शहर में 2008 में हुए सिलसिलेवार बम धमाके के मामले में 38 दोषियों को शुक्रवार यानि आज मौत की सजा सुनाई। इन धमाकों में 56 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 200 से अधिक लोग घायल हुए थे। गुजरात जब इन बम धमाकों से सुलग रहा था उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य के मुख्यमंत्री थे। जानकार बताते हैं कि, बम धमाकों के बाद वहां का मौहोल का काफी खराब हो गया था। पुलिस की मनाही को दरकिनार रख पीएम मोदी ब्लास्ट वाली जगह पर गए थे और सुरक्षा अधिकारिकों के साथ बैठक ली थी।

जानें साल 2008 का वह किस्सा
26 जुलाई को जब अहमदाबाद में सिलसिलेबार ब्लास्ट हुए तो मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलिस कमिश्नर से स्पॉट वाली जगह पर जाने की इच्छा जाहिर की थी। इस पर कमिश्नर पीसी पांडे ने कहा था कि सर इस वक्त वहां जाना किसी खतरे से खाली नहीं है, क्योंकि बम कहीं भी रखा हो सकता है। ऐसे में गांधीनगर से अहमदाबाद आना सुरक्षित नहीं होगा। लेकिन इसके बाद भी नरेंद्र मोदी और उस समय के गुजरात के गृह मंत्री अहमदाबाद आए और पुलिस कमिश्नर के ऑफ़िस में बैठक की थी। 

तब सीएम मोदी ने अपराधियों पर बड़ा एक्शन लेते हुए पुलिस अधिकारियों से कहा था, ''आप ब्लास्ट करने वालों को पकड़ो, यही देश की सेवा होगी।” इसके बाद पुलिस जांच में पूरे मॉडयूल का भंडाफोड़ हुआ। जिन दोषियों को सजा मिली है, वह देश के 8 राज्यों से हैं।'

धमाकों से दहल उठा था अहमदाबाद
बतातेें चलें कि, अदालत ने आठ फरवरी को मामले में 49 आरोपियों को दोषी ठहराया था और 28 अन्य को बरी कर दिया था। गौरतलब है कि शहर 26 जुलाई 2008 को एक के बाद एक हुए धमाकों से दहल गया था। अदालत ने पिछले साल सितंबर में 77 आरोपियों के खिलाफ मुकदमे की सुनवाई पूरी की थी। कुल 78 आरोपियों में से एक गवाह बन गया था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News