कोरोना वायरस: दिल्ली के सभी सात जिलों में लॉकडाउन का ऐलान, जरूरी सेवाएं खुली रहेंगी।

2020-03-22T19:53:39.78

नेशनल डेस्क: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को घोषणा की कि कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के मद्देनजर 23 मार्च को सुबह छह बजे से राजधानी लॉकडाउन में रहेगी। उन्होंने उप राज्यपाल अनिल बैजल के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में बताया कि लॉकडाउन 31 मार्च को अर्द्धरात्रि 12 बजे तक चलेगा। केजरीवाल ने कहा कि लॉकडाउन में सार्वजनिक परिवहन का कोई साधन नहीं चलेगा और दिल्ली की सीमाओं को सील कर दिया जाएगा लेकिन स्वास्थ्य, खानपान, जल और विद्युत आपूर्ति आदि से संबंधित आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। उन्होंने यह भी बताया कि दुग्ध उत्पाद की दुकानें, किराना दुकानें, दवा की दुकानें और पेट्रोल पंप खुले रहेंगे, वहीं जरूरी सेवाओं से जुड़े सभी लोगों को इस दौरान आवागमन की अनुमति दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हमें पता है कि लोगों को कठिनाइयां आएंगी लेकिन कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन जरूरी है।'' उन्होंने यह भी बताया कि दिल्ली में कोविड-19 के कुल मामलों में से छह स्थानीय स्तर पर संक्रमण के हैं।
PunjabKesari
देश में कोरोना वायरस ‘कोविड-19' के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर सभी यात्री रेल सेवाएं, मेट्रो रेल सेवाएं और अंतरराज्यीय बस परिवहन सेवाएं 31 मार्च तक बंद करने का निर्णय लिया गया है तथा जिन 75 जिलों में कोरोना वायरस के मामले पाए गए हैं उनमें अनिवार्य को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी।कैबिनेट सचिव और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव की सभी राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ आज सुबह हुई उच्च स्तरीय बैठक में ये निर्णय लिए गए। बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि कोरोना के बढ़ते असर के मद्देनजर पाबंदियों को बढाना जरूरी है।
PunjabKesari
बैठक में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए जो इस प्रकार हैं। उपनगरीय सहित सभी रेल सेवाएं 31 मार्च तक स्थगित रहेंगी हालाँकि मालगाडियों को इससे छूट दी गई है। सभी मेट्रो रेल सेवाएं भी 31 मार्च तक स्थगित रहेंगी। जिन 75 जिलों के व्यक्तियों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है उनमें संबंधित राज्य सरकारें आदेश जारी कर सुनिश्चित करेंगी कि इन जिलों में अनिवार्य सेवाएं छोड़कर अन्य सभी सेवाएं बंद रहेंगी। इसके साथ ही अंतरराज्यीय बस परिवहन सेवा भी 31 मार्च तक स्थगित रहेंगी। 
PunjabKesari
बैठक में यह निर्णय लिया गया कि अंतररज्यीय परिवहन बस सेवा सहित सभी गैर जरूरी यात्री परिवहन सेवाएं 31 मार्च तब बंद रहेंगी। विस्तार से चर्चा के बाद राज्यों से कहा गया है कि वे स्थिति का आंकलन करने के बाद पाबंदी के दायरे में लायी जाने वाली सेवाओं की सूची को बढा सकते हैं। बैठक में बताया गया कि विभिन्न राज्य सरकारों ने इस बारे में पहले ही आदेश जारी कर दिए हैं। सभी मुख्य सचिवों ने बैठक में बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रविवार को जनता कर्फ्यू लागू करने के आह्वान पर बहुत हद तक अमल हो रहा है और इसे सब जगह से समर्थन मिल रहा है।


Yaspal

Related News