ऑक्सीजन से मचे हाहाकार को लेकर भड़के बत्रा अस्पताल के चीफ, पूछा- इस देश को कौन चल रहा है

2021-05-04T12:49:50.947

नेशनल डेस्क: राष्ट्रीय राजधानी के हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी के चलते सैंकड़ों मरीजों की जिंदगी अधर में लटकी हुई है, ऐसे में कई अस्पताल सरकार सेऑक्सीजन स्टॉक को भरने के लिए मदद की गुहार लगा रहे हैं। इसी हाहाकार के माहौल के बीच  बत्रा अस्पताल के निदेशक ने कहा कि मुझे नहीं पता कि यह देश कौन चला रहा है।

PunjabKesari

बत्रा अस्पताल के चीफ ने सरकार के प्रति अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि  ऑक्सीजन के अभाव में मरीज मर रहे हैं। कोरोना का इलाज करने के लिए प्रयाप्त साधन नहीं है, यहां तक की दवाइयां भी नहीं मिल रही है। अस्पतालके निदेशक ने कहा कि सरकार कहती है कि हमारे देश में ऑक्सीजन की कमी नहीं है, लेकिन मरीज मर रहे हैं। न्यायपालिका या कार्यपालिका? मुझे नहीं पता कि यह देश कौन चला रहा है।

PunjabKesari

बता दें कि दिल्ली में सोमवार को मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति 447 मीट्रिक टन रही जो केंद्र की तरफ से आवंटित 590 मीट्रिक टन से बहुत कम है। सूत्रों ने बताया कि कोविड-19 के गंभीर मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मेडिकल ऑक्सीजन की काफी कमी और केंद्र से लगातार मांग के बावजूद दिल्ली में आपूर्ति नहीं हो पा रही है। आपूर्ति 28 अप्रैल को 431 मीट्रिक टन से बढ़ाकर दो मई को 447 मीट्रिक टन हो गयी लेकिन मांग प्रतिदिन 900 मीट्रिक टन से अधिक हो गई है।

PunjabKesari

दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र ने हाल में महानगर का रोजाना ऑक्सीजन कोटा 378 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 480 मीट्रिक टन, फिर 490 मीट्रिक टन और अंतत: 590 मीट्रिक टन किया था। दिल्ली सरकार ने पहले 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्रतिदिन की मांग की थी, लेकिन अब वह प्रतिदिन 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग कर रही है।


Content Writer

vasudha

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static