ऑस्ट्रेलिया चुनावः सत्ता की चाबी भारतीयों के हाथ ! प्रचार के लिए मंदिरों-गुरुद्वारों में पहुंचे PM व विपक्षी उम्मीदवार

punjabkesari.in Wednesday, May 18, 2022 - 12:35 PM (IST)

सिडनीः  ऑस्ट्रेलिया में हो रहे आम चुनाव के लिए 21 मई को मतदान है।  प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन लिबरल पार्टी के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। उन्हें लेबर उम्मीदवार एंथनी अल्बनीज द्वारा चुनौती दी जा रही है। ऑस्ट्रेलिया में सत्ता की चाबी भारतीय जनता के हाथ में है। वास्तव में, भारतीय समुदाय ऑस्ट्रेलिया में अंग्रेजों के बाद दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला समुदाय है।

PunjabKesari

पूरे देश में भारतीय मूल के सात मिलियन से अधिक ऑस्ट्रेलियाई रहते हैं। इसलिए भारतीय मूल के ऑस्ट्रेलियाई किसी भी नेता और पार्टी का राजनीतिक भविष्य तय कर सकते हैं। इन दिनों मॉरिसन और अल्बानियाई वोट मांगने के लिए मंदिरों और गुरूद्वारों व अन्य धार्मिक स्थलों पर जा रहे हैं। अन्य दलों के उम्मीदवार भी वोट मांगने के लिए भारतीय समुदाय में घूम रहे हैं। 

PunjabKesari

100 से अधिक गैर-अंग्रेजी देशों के उम्मीदवार मैदान में
दोनों प्रमुख दलों ने इस संघीय चुनाव में 100 से अधिक गैर-अंग्रेजी देशों के उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। इनमें से एक तिहाई टिकट भारतीय मूल के उम्मीदवारों को आवंटित किए गए हैं। न्यू साउथ वेल्स और विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया के दो सबसे बड़े राज्यों में, भारतीय समुदाय की आबादी सबसे अधिक है। यहां दो लाख से ज्यादा भारतीय रहते हैं। न्यू साउथ वेल्स की राजधानी सिडनी के पश्चिमी हिस्से में दोनों पक्षों के बीच झड़प हो गई है। लिबरल पार्टी ने यहां ग्रीनवे सीट से प्रदीप पाठी को मैदान में उतारा है। लिबरल पार्टी ने भारतीय मूल के दोनों राज्यों परमेटा ग्रीनवे, लेलर, चिफल, होथम और मारिबुंग में भारतीय मूल के उम्मीदवार खड़े किए हैं।

PunjabKesari

 भारतीय मूल के उम्मीदवारों को वरीयता
लेबर पार्टी ने हिगिंस, ला ट्रोब, स्वान और वेरावा निर्वाचन क्षेत्रों में भारतीय मूल के उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। पश्चिमी सिडनी विश्वविद्यालय में सामाजिक संस्थान की डॉ सुखमनी खुराना का कहना है कि वह 20 साल पहले ऑस्ट्रेलिया आई थीं और आज तक उन्होंने स्थानीय नेताओं से ऑस्ट्रेलिया में भारतीय समुदाय के प्रति ज्यादा झुकाव नहीं देखा है। 2019 के चुनाव में भी भारतीय मूल के 21 उम्मीदवार मैदान में थे। ऐतिहासिक रूप से, ऑस्ट्रेलिया के कई संघीय चुनावों में एक भी पार्टी ने पूर्ण बहुमत नहीं जीता है  कई सीटें ऐसी हैं जहां सिर्फ 1 या 2% वोट ही सरकार को गिरा सकते हैं।

 PunjabKesari

 मॉरिसन ले रहे  PM मोदी की दोस्ती का सहारा
 चुनाव प्रचार के लिए मॉरिसन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दोस्ती का सहारा ले रहे हैं। मॉरिसन ने कुछ दिन पहले हिंदू परिषद के एक समारोह में भगवा दुपट्टा पहना था। अप्रवासियों के बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता को देखते हुए उन्होंने मोदी से अपनी दोस्ती का जिक्र किया। उन्होंने परिषद को 13 करोड़ रुपए देने का भी वादा किया। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News