आज का श्रवण कुमार:  दृष्टिहीन माता-पिता का पेट भरने के लिए  ई-रिक्शा चला रहा  8 साल का बालक

2021-09-11T13:04:34.3

नेशनल डेस्क:  दृष्टिहीन माता-पिता और तीन भाई-बहनों का पेट पालने के लिए 8 साल का एक बच्चा हैदराबाद में इन दिनों ई-रिक्शा चला रहा है। पिछले हफ्ते की शुरुआत में चंद्रगिरी की ओर जा रहे एक व्यक्ति ने हाईवे पर स्कूल ड्रेस पहने एक छोटे बच्चे को ई-रिक्शा चलाते हुए देखा था। बच्चा दो लोगों को अपने ई-रिक्शा पर बैठाकर कहीं ले जा रहा था। वह हैरान रह गया। उसने ई-रिक्शा को रोका और उसे चला रहे लड़के से पूछताछ की। यात्रियों के साथ वाहन चलाते हुए आठ साल के बच्चे की कहानी ने उसे झकझोर कर रख दिया। तीसरी कक्षा में पढ़ने वाला गोपाल कृष्ण अपने परिवार का पेट पालने के लिए ई-रिक्शा चला रहा है। उनके माता और पिता दोनों दिव्यांग हैं और गोपाल कृष्ण 3 भाई-बहनों में बड़े बेटे हैं।


स्कूल के बाद माता-पिता को लाता है घर
गोपाल कृष्ण ने कहा ने कहा कि स्कूल के बाद मैं अपने माता-पिता को ई-रिक्शा में ले जाता हूं। बड़ा बेटा होने के नाते परिवार की मदद करना मेरी जिम्मेदारी है। गोपाल कृष्ण के दृष्टिहीन माता-पिता चंद्रगिरी शहर में अलग-अलग जगह पर सब्जियां और किराने का सामान बेचते हैं। गोपाल कृष्ण के पिता ने बताया कि मैं और मेरी पत्नी शत-प्रतिशत दृष्टिबाधित हैं, हमारे तीन बेटे हैं, हमारा बड़ा बेटा पढ़ाई के बाद पैसे कमाने में हमारी मदद करता है। दोनों के तीनों बच्चे शारीरिक रूप से फिट हैं और दंपति उन्हें बेहतर जीवन देने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।


सरकार से पैंशन बढ़ाने की मांग
पिता ने कहा कि हम चाहते हैं कि सरकार हमारी पैंशन बढ़ाए। वर्तमान में हमें पेंशन के रूप में केवल 3,000 रुपये मिलते हैं। हम आभारी होंगे यदि सरकार हमें एक घर और हमारे बच्चों के अनुरोधित पार्वती के अध्ययन में सहायता प्रदान करे। गोपाल कृष्ण अपनी मां और पिता को चंद्रगिरी अस्पताल के पास ले जाते थे जहां वे किराने का सामान और आजीविका कमाने के लिए अन्य सामान बेचते थे। हाल ही में पुलिस ने गोपाल को पकड़ लिया था और केवल यह आश्वासन देते हुए वाहन को छोड़ दिया कि वह इसे फिर से नहीं चलाएगा।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Recommended News