चीनियों ने तिब्बत के रोजगार बाजार पर किया कब्जा, नौकरियों के लिए भटक रहे तिब्बती लोग

11/25/2021 5:54:47 PM

ल्हासा: चीन के दबदबे के चलते तिब्बत में लोगों को रोजगार संकट का सामना करना पड़ रहा है। एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि हान चीनी तिब्बत में नौकरी के बाजार में हावी हो रहे हैं जिसकारण  स्थानीय विश्वविद्यालय के स्नातक रोजगार संकट का सामना कर रहे हैं। रेडियो फ्री एशिया ने तिब्बती स्रोतों का हवाला देते हुए बताया कि राजधानी शहर ल्हासा में चीनी सरकारी कार्यालय को नौकरी के संकट और असुरक्षा के संबंध में तिब्बती विश्वविद्यालय के स्नातकों की शिकायतों में बढञौतरी हुई है।  रिपोर्ट के अनुसार हान चीनी अपना दबदबा बढ़ा रहे हैं और क्षेत्र में सार्वजनिक क्षेत्र के रोजगार सहित स्थानीय बाजार पर कब्जा कर रहे हैं।

 

रेडियो फ्री एशिया ने राज्य मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए बताया कि 18 नवंबर को नागरिकों की प्रतिक्रिया आमंत्रित करने वाले ऑनलाइन प्लेटफॉर्म द्वारा प्राप्त ईमेल का एक बड़ा हिस्सा तिब्बती छात्रों के लिए नौकरी के अवसरों की कमी से संबंधित था।  रेडियो फ्री एशिया ने अपने एक सूत्र के हवाले से कहा, "सरकार ने 2018 में वादा किया था कि वे विश्वविद्यालय के स्नातकों के लिए अधिक रोजगार के अवसर पैदा करेंगे, लेकिन अधिकांश पेशेवर नौकरियां अभी भी हान चीनी नागरिकों को दी जा रही हैं, इसलिए तिब्बती काम खोजने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। "

 

पिछले कुछ वर्षों के दौरान कई चीनी विकास के नाम पर तिब्बत में बस गए हैं  और तिब्बती स्नातकों ने नौकरी खोजने के अपने सभी अवसरों को खो दिया है। और यहां तक ​​​​कि अगर उन्हें नौकरी मिलती है, तो उन्हें केवल अनुबंध के तहत रखा जाता है और उन्हें दिहाड़ी के आधार पर भुगतान किया जाता है ।
अधिकांश तिब्बती स्नातक समस्याओं का सामना कर रहे हैं और उन्हें निजी कंपनियों, उच्च तकनीक फर्मों और निर्माताओं में रोजगार खोजने में कठिनाई हो रही है। रेडियो फ्री एशिया ने पूर्व रिपोर्टों के सूत्रों का हवाला देते हुए बताया कि नौकरी के आवेदकों और चाहने वालों के लिए एक अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी पाना चिंताजनक हो रहा है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News